Madras High Court ने कहा कोरोना के दूसरे लहर के लिए चुनाव आयोग दोषी, चलना चाहिए हत्या का मुकदमा - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

Madras High Court ने कहा कोरोना के दूसरे लहर के लिए चुनाव आयोग दोषी, चलना चाहिए हत्या का मुकदमा

Chennai: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है.  ऐसे में मद्रास हाई कोर्ट का गुस्सा सोमवार को चुनाव आयोग पर फूटा है. देश के 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव को लेकर मद्रास हाई कोर्ट ने चुनाव आयोग को जमकर कोसा. कोर्ट ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर का जिम्मेवार कहीं ना कहीं चुनाव आयोग ही है. जब देश में कोरोना के मामले पनपने लगे थे तो क्या ऐसे माहौल में राज्यों में चुनाव होना जरूरी था या फिर कोरोना के संक्रमण पर लगाम लगाया जाना चाहिए था. हाईकोर्ट ने कहा कि चुनाव आयोग के इस रवैया से देश के कई लोगों को झटका लगा है.  चुनाव आयोग के खिलाफ हत्या का मुकदमा चलाया जाना चाहिए.

देश की सबसे गैर जिम्मेदार संस्था है चुनाव आयोग

बता दें के मुख्य न्यायाधीश संजीव बनर्जी और न्यायमूर्ति सतीश कुमार राममूर्ति की पीठ आज परिवहन मंत्री एमआर विजय भास्कर की याचिका पर सुनवाई कर रही थी. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि जो स्थितियां सामने आई है उससे देखकर यह कहना गलत नहीं होगा कि चुनाव आयोग आज के समय में देश की सबसे गैर जिम्मेदार संस्था है. कोर्ट ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए चुनाव आयोग ने कभी भी सख्त कदम नहीं उठाए.  यहीं कारण है कि देश भर में आज यह हालात उत्पन्न हो गए हैं. कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयोग के इस व्यवहार का दंश पूरा देश झेल रहा है और ना जाने आने वाले समय में कितनी और मौतें कोरोना के कारण होनी है.

इसे भी पढें-  Corona vaccine : दिल्ली सीएम का बड़ा ऐलान, 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों का होगा फ्री वैक्सीनेशन

2 मई को होनी है मतगणना

कोरोना से देश में बने हालातों के बीच पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों की मतगणना 2 मई को होनी है. लेकिन देश भर में चुनाव आयोग के खिलाफ अब आक्रोश का माहौल है.  लोग सीधे तौर पर चुनाव को कोरोना की दूसरी लहर का जिम्मेवार बता रहे हैं. मद्रास हाई कोर्ट के भी आज के बयान कुछ यही साबित करते हैं कि लोगों का आक्रोश सही है. कोर्ट ने कहा है कि  चुनाव आयोग को इस विषय में बहुत पहले सोचना चाहिए था. मद्रास हाई कोर्ट ने कहा कि लोगों का स्वास्थ्य मसला सारी राजनीतिक बातों से ऊपर है ऐसे में चुनाव आयोग को इस बारे में काफी पहले सोचना चाहिए था.

इसे भी पढें- stay home stay safe..अब सरकार घर बैठे बनवाकर देगी ड्राइविंग लाइसेंस, ड्राइविंग लाइसेंस की वैद्यता बढ़ाकर 30 जून हुई

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *