nayaindia Elections for Rajya Sabha राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को चुनाव
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Elections for Rajya Sabha राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को चुनाव

राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को चुनाव

bio samples of accused

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने राज्यसभा के दोवार्षिक चुनावों की घोषणा कर दी है। जून से अगस्त के बीच खाली हो रही राज्यसभा की 57 सीटों के लिए 10 जून को चुनाव होगा। इससे पहले इस साल 13 सीटों के चुनाव हो गए हैं। बाकी 57 सीटों के लिए चुनाव आयोग ने गुरुवार को चुनाव की तारीख का ऐलान किया। राज्ससभा चुनाव की अधिसूचना 24 मई को जारी की जाएगी। नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 मई होगी। जिन सीटों पर जरूरत होगी उन पर वोटिंग 10 जून को सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक होगी। वोटों की गिनती उसी दिन शाम पांच बजे होगी।

ध्यान रहे भाजपा राज्यसभा में पहले ही सौ का आंकड़ा पार कर चुकी है और उसकी नजर राज्यसभा में भी बहुमत हासिल करने पर है। हालांकि इस बार के चुनाव में यह संभव नहीं है। उच्च सदन की 245 सीटों में से भाजपा के पास 101 सीटें हैं और चुनाव के बाद उसकी संख्या बढ़ने की  संभावना कम है। कांग्रेस के पास अभी 29 सीटें हैं। उसे उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और पंजाब में चार सीटों का नुकसान होगा। लेकिन इनकी भरपाई राजस्थान और छत्तीसगढ़ से हो सकती है।

राज्यसभा के दोवार्षिक चुनावों में सबसे अधिक 11 सीटें उत्तर प्रदेश की हैं, जिनमें भाजपा को सात से आठ सीटें मिल सकती हैं। तीन या चार सीटों पर समाजवादी पार्टी के जीतने की संभावना है। तमिलनाडु और महाराष्ट्र में छह-छह सीटों पर चुनाव होंगे। बिहार में पांच, कर्नाटक, राजस्थान और आंध्र प्रदेश में चार-चार, मध्य प्रदेश और ओडिशा में तीन-तीन, पंजाब, झारखंड, हरियाणा, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना दो-दो और उत्तराखंड से एक सीट पर चुनाव होगा।

इससे पहले पांच राज्यों- केरल, पंजाब, असम, त्रिपुरा और नगालैंड की 13 सीटों के लिए 31 मार्च को वोटिंग हुई थी। जून में जिन सीटों पर चुनाव होने वाले हैं उनमें कई केंद्रीय मंत्रियों की सीटें भी हैं। कर्नाटक से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, झारखंड से मुख्तार अब्बास नकवी और महाराष्ट्र से पीयूष गोयल की सीटें खाली हो रही हैं। इन सभी के फिर से वापस उच्च सदन में जाने की संभावना है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

eleven − seven =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सामाजिक समरसता का मिसाल बना कन्या विवाह
सामाजिक समरसता का मिसाल बना कन्या विवाह