तथ्यों पर आस्था की जीत : ओवैसी

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि अयोध्या मामले में उच्च्चतम न्यायालय के फैसले से यह साफ हो गया है कि इसमें तथ्यों पर आस्था की जीत हुई है। श्री ओवैसी ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि विवाद को लेकर उच्चतम न्यायालय के फैसले पर शनिवार को कहा कि बाबरी मस्जिद को गिराने वाले को ही ट्रस्ट बनाकर मंदिर बनाने के लिए देना न्यायालय का फैसला चौंकाने वाला है।

इसे भी पढ़ें :- कोर्ट के फैसले को हार-जीत के तौर पर न देखें: मोदी

अगर बाबरी मस्जिद नहीं शहीद की जाती तो इस मामले में न्यायालय क्या फैसला करती। सुप्रीम कोर्ट का फैसला सर्वोच्च है लेकिन ऐसा नहीं है कि उसकी आलोचना नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि उन्हें संविधान पर भरोसा है इसलिए इस मामले में कानूनी न्याय की लड़ाई लड़ रहे थे। मुस्लमानों की आने वाली नस्ल को यह बताना जरूरी है कि छह दिसंबर 1992 को संघ परिवार और कांग्रेस की साजिश में बाबरी मस्जिद को शहीद किया गया था।

इसे भी पढ़ें :- फैसले से सुन्नी वक्फ बोर्ड संतुष्ट नहीं

एआईएमआईएम के लोकसभा सदस्य ने कहा कि यह सर्वविदित है कि मुसलमान गरीब हैं और उसके साथ ज्यादती हुई है उसके बावजूद मुसलमान इतना लाचार और मजबूर नहीं है कि वह मस्जिद बनाने के पांच एकड़ जमीन नहीं खरीद सकता है। हमें किसी से जमीन भीख लेने की जरूरत नहीं। मेरी व्यक्तिगत राय है कि पांच एकड़ जमीन लेने के फैसले को अस्वीकर करना चाहिए। उन्होंने कहा देश हिंदू राष्ट्र के मार्ग पर चलना शुरु कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी, संघ परिवार आने वाले दिनों में अयोध्या के फैसले तथा एनआरसी को इस्तेमाल करके हिन्दू राष्ट्र के मकसद को पूरा करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares