nayaindia molanupiravir to the elderly मोलनुपिराविर सिर्फ बुजुर्गों को दे
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| molanupiravir to the elderly मोलनुपिराविर सिर्फ बुजुर्गों को दे

मोलनुपिराविर सिर्फ बुजुर्गों को दे

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए इस्तेमाल में लाई जा रही एंटी वायरल दवा मोलनुपिराविर के इस्तेमाल को लेकर नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्युनाइजेशन यानी एनटागी ने मंगलवार को बड़ी सलाह दी। एनटागी के प्रमुख डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा कि मोलनुपिराविर दवा मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने और आईसीयू तक जाने से बचाती है। उन्होंने कहा कि ये दवा बुजुर्गों को दी जानी चाहिए। खास तौर से उन बुजुर्गों को, जो पहले से गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं।

डॉक्टर अरोड़ा ने इसके साथ ही यह भी सलाह दी कि ये दवा और ऐसे लोगों को जो प्रजनन की उम्र में हों उनको नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि मोलनुपिराविर का बेवजह इस्तेमाल खतरनाक साबित हो सकता है। गौरतलब है कि पिछले साल दिसंबर में स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस एंटी वायरल ड्रग के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी थी। जानकारों का दावा है कि यह दवा कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन पर भी कारगर है।

Read also राजधानी दिल्ली में आज कोरोना से 23 लोगों की मौत, सामने आए 21 हजार 259 नए केस

मोलनुपिराविर को सर्दी, जुकाम के मरीजों के लिए बनाया गया था। यह एक एंटी वायरल ओरल ओरल ड्रग है। इसका इस्तेमाल कोरोना मरीजों पर भी किया जा रहा है। कहा गया है कि इसे कोरोना से संक्रमित 18 साल से ज्यादा उम्र के गंभीर मरीजों को दिया जाएगा। मोलनुपिराविर दवा वायरस के जेनेटिक कोड में गड़बड़ी कर उसकी फोटोकॉपी होने से रोकती है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

two + 4 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आंधी और बारिश से तबाही
आंधी और बारिश से तबाही