गूगल ने बेल्जियन भौतिक विज्ञानी को समर्पित किया डूडल

नई दिल्ली। गूगल ने बेल्जियम के भौतिक विज्ञानी जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड प्लेट्यू को उनकी 218वीं जयंती पर डूडल समर्पित कर उन्हें याद किया है। 1832 में जब बेल्जियम के भौतिक विज्ञानी जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड प्लेट्यू ने फेनाकिस्टिस्कोप का आविष्कार किया था, जो एक चलती छवि का भ्रम देने वाला पहला उपकरण था तब शायद ही वह जानते होंगे कि वह एक ऐसे उद्योग की आधारशिला रख रहे हैं जो हमें सिनेमा से लेकर टीवी और नेटफ्लिक्स जैसे ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेयर्स के जरिए कई तरह से हमारा मनोरंजन करेगा। गूगल ने सोमवार को एक विशेष डूडल के जरिए उनके आविष्कार को सराहा। डूडल को एनिमेटर-फिल्म निर्माता ओलिविया हुयन ने बनाया है।

14 अक्टूबर, 1801 को ब्रसेल्स में जन्मे, जोसेफ एक चलती छवि का भ्रम प्रदर्शित करने वाले पहले व्यक्तियों में से एक थे। छह साल की उम्र में ही जोसेफ पढ़ने में सक्षम थे, जिसने उन्हें उस दौर के विलक्षण बच्चों की श्रेणी में ला खड़ा किया। जोसेफ ने यूनिवर्सिटी ऑफ लीज में पढ़ाई की और 1829 में भौतिक और गणितीय विज्ञान के डॉक्टर के रूप में स्नातक किया। 1827 में वह ब्रसेल्स में ‘एथेनम’ स्कूल में गणित के शिक्षक बन गए और 1835 में गेन्ट यूनिवर्सिटी में भौतिकी के प्रोफेसर नियुक्त किए गए। 1832 में, जोसेफ ने एक प्रारंभिक स्ट्रोबोस्कोपिक उपकरण, ‘फेनाकिस्टोस्कोप’ का आविष्कार किया।

इसकी दो डिस्क थीं – एक जिसमें छोटी समभुज वाली रेडियल विंडोज थी, जिसके माध्यम से दर्शक देख सकता था और दूसरी जिसमें चित्रों का एक क्रम था। दोनों डिस्क के सही गति से घूमने पर विंडोज और छवियों के सिंक्रनाइजेशन ने एक एनिमेटेड प्रभाव पैदा किया। स्ट्रोबोस्कोपिक तस्वीरों का प्रोजेक्शन गति का भ्रम पैदा करता है जो अंतत: सिनेमा के विकास का आधार बना। 15 सितंबर, 1883 को उत्तर पश्चिमी बेल्जियम के बंदरगाह शहर गेन्ट में प्रोफेसर का निधन हो गया।

इसे भी पढ़े : पर्सनेलिटी डिस्आर्डरः भूत-प्रेत का साया नहीं बल्कि बीमारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares