ताजा पोस्ट | देश

हाईकोर्ट के पास केंद्रीय अधिनियमों को रद्द करने की शक्ति : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने आज महामारी अधिनियम की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया और याचिकाकर्ता को सुझाव दिया कि इस मुद्दे पर हाईकोर्ट का रुख किया जा सकता है, क्योंकि उनके पास भी केंद्रीय अधिनियमों को खत्म करने की शक्ति है।

न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा और इंदिरा बनर्जी के साथ डी.वाई. चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने याचिकाकर्ता ने कहा, आपने किस तरह की याचिका दायर की है, क्या आपके पास महामारी अधिनियम को चुनौती देने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट नहीं है?

याचिकाकर्ता ने दलील दी कि याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई थी, क्योंकि यह एकमात्र अदालत है, जो एक केंद्रीय कानून को रद्द कर सकती है। इस पर न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने जवाब दिया कि याचिकाकर्ता को अनुच्छेद 226 के तहत हाईकोर्ट की शक्तियों को पढ़ना चाहिए। पीठ ने याचिकाकर्ता एच.एन. मिराशी से कहा, अगर आप दिल्ली हाईकोर्ट की दूसरी मंजिल या फिर भूतल पर स्थित पुस्तकालय में जाते हैं और डी.डी. बसु की शॉर्टर कांस्टीट्यूशन नामक एक पुस्तक का उपयोग करते हैं, तो आप पाएंगे कि हाईकोर्ट के पास शक्ति है।

पीठ ने याचिकाकर्ता को शीर्ष अदालत से याचिका वापस लेने और संबंधित हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने के लिए कहा। याचिकाकर्ता ने शीर्ष अदालत से कहा कि वह इसे हाईकोर्ट को स्थानांतरित करने के लिए एक निर्देश जारी करे। इस पर पीठ ने जवाब दिया कि अदालत को निर्देश क्यों देना चाहिए, याचिकाकर्ता खुद कानून के अनुसार, उपयुक्त प्राधिकारी से संपर्क कर सकता है।

शीर्ष अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता की यह धारणा पूरी तरह से गलत है कि हाईकोर्ट को केंद्र के अधिनियम को रद्द करने का अधिकार नहीं है। शीर्ष अदालत ने दोहराया कि देश के सभी हाईकोर्ट के पास एक कानून को खत्म करने की शक्ति है। मामले में एक संक्षिप्त सुनवाई के बाद याचिकाकर्ता ने याचिका वापस ले ली।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश | जम्मू-कश्मीर | ताजा पोस्ट

Sopore Encounter: सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता, लश्कर कमांडर सहित 3 आतंकी ढेर

Sopore Encounter

श्रीनगर | Sopore Encounter: जम्मू-कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने बड़ी कामयाबी पाते हुए आतंकी संगठन लश्कर-ए तैयबा (Lashkar E Taiba) के कमांडर (Lashkar commander) को ढेर कर दिया है। कमांडर के अलावा 2 आतंकी भी मारे गए है। इस एनकाउंटर में सेना, CRPF और जम्मू कश्मीर पुलिस का संयुक्त योगदान रहा। बता दें कि जम्मू-कश्मीर में हाल ही क दिनों में आतंकियों और सुरक्षाकर्मियों में कई बार मुठभेड़ हो चुकी है। पुलिस के अनुसार इलाके में अभी भी आतंकियों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन जारी है।

ये भी पढ़ें:- International Yoga day 2021 : कोविड के खिलाफ भारत की लड़ाई में योग आशा की किरण: पीएम मोदी

आतंकी ने की थी पुलिसकर्मियों, नेताओं की हत्या
जम्मू कश्मीर पुलिस के आईजी ने जानकारी देते हुए बताया कि सोपोर (Sopore Encounter) में रविवार रात को हुए एनकाउंटर में आतंकी संगठन लश्कर-ए तैयबा के कमांडर समेत तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। मारा गया लश्कर का कमांडर आतंकी मुदसिर पंडित (Mudasir Pandit) तीन पुलिसकर्मियों, दो नेताओं और दो नागरिकों की हत्या का आरोपी भी था।

ये भी पढ़ें:- Rajasthan में कोरोना से राहत, जल्द हट सकती हैं कई पाबंदियां, सीमए बोले- फैसला एक-दो दिन में

सर्च ऑपरेशन लगातार जारी
जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों द्वारा लगातार सुरक्षाकर्मियों को कश्मीर बनाया जा रहा है जिसके मध्य नजर सुरक्षाबलों ने कई ऑपरेशन शुरू किए है। आईजी ने बताया कि 12 जून को उत्तरी कश्मीर में हुए आतंकी हमले के बाद सुरक्षाबलों ने कई ऑपरेशन शुरू किए थे।

ये भी पढ़ें:- Delhi Unlock Market : दिल्ली में आज से खुल सकेंगे मार्केट, काम्प्लेक्स, रेस्टोरेंट और बार

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में आतंकी सुरक्षाबलों को लगातार निशाना बना रहे है। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने आतंकियों को पकड़ने के लिए सर्च अभियान चला रखा है। दो दिन पूर्व ही जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकी माड्यूल का भड़ाफोड़ किया था और उनके पास से भारी मात्रा में तबाही का सामान बरामद किया था। इससे पहले 16 जून को नौगाम में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी मार गिराया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *