महाराष्ट्र, केरल और पंजाब में कोरोना से सर्वाधिक मौतें - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

महाराष्ट्र, केरल और पंजाब में कोरोना से सर्वाधिक मौतें

नयी दिल्ली। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 17 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस (कोविड-19) से 104 मरीजों की जान गयी जिनमें से सबसे ज्यादा मौतें महाराष्ट्र, केरल और पंजाब में हुई।

इस दौरान महाराष्ट्र में जहां इस महामारी से 51 लोगों की मृत्यु हुई है, वहीं केरल में 14 और पंजाब में 10 लोगों ने दम तोड़ा है। बाकी 14 राज्यों तथा केंद्रीय शासित प्रदेशों में कुल मिलाकर 29 मौतें हुई हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में गत 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 13,742 नये मामले सामने आये और संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर एक करोड़ 10 लाख 30 हजार से अधिक हो गया है। इस दौरान 14,037 मरीज स्वस्थ हुए जिसे मिलाकर कोरोनामुक्त होने वालों की संख्या एक करोड़ सात लाख 26 हजार 702 हो गयी है। सक्रिय मामलों में 399 की गिरावट हुई और इनकी संख्या अब एक लाख 46 हजार 907 रह गयी है। पिछले 24 घंटों के दौरान 104 मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर एक लाख 56 हजार 567 हो गया है।

विभिन्न राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों में कोरोना संक्रमितों की संख्या इस प्रकार है:

राज्य……………….सक्रिय……….स्वस्थ……..मौत

अंडमान-निकोबार–5———4949—–62

आंध्र प्रदेश—— 575——- 881666—7168

अरुणाचल प्रदेश–4——— 16776—- 56

असम———-1604——–214732—1091

बिहार———- 548——–260218—1537

चंडीगढ़ ——–227——– 20923—–350

छत्तीसगढ़ ——-2977 ——-304647—3809दादरा- नगर हवेली

दमन-दीव——- 3———– 3398—– 2

दिल्ली——— 1009——– 626261—-10903

गोवा———- 479———-53381—–788

गुजरात——–1786———261575—- 4406

हरियाणा ——-908———-266017——3042

हिमाचल प्रदेश—218——— 57210——995

जम्मू-कश्मीर —-766———-123298—–1955

झारखंड——– 447———-118154—– 1086कर्नाटक ——-6081———-930465—– 12303

केरल ———54949——–981835—— 4119

लद्दाख——– 45————9621———130

लक्षद्वीप——-80————236———-0

मध्य प्रदेश—-2151———-253963——3855

महाराष्ट्र—— 54604———2005851—–51857

मणिपुर——–36———— 28834——- 373

मेघालय——-20————-13787——–148

मिजोरम——-24———— 4379——— 10

नागालैंड——12————-12089———-91

ओडिशा——-610———– 334243——-1914

पुड्डुचेरी ——179———– 38784——– 665

पंजाब ——-3167————170187——- 5779

राजस्थान—–1195———–315722——- 2785

सिक्किम ——47———— 5950———-135

तमिलनाडु—- 4074———-832620——-12472

तेलंगाना—— 1745——— 294683——–1629

त्रिपुरा ———47———–32962——— 391

उत्तराखंड ——491———94850——-1690

उत्तर प्रदेश—–2268———591989——-8718

पश्चिम बंगाल—3399——– 560447——-10253

कुल———-146907—— 10726702—–156567

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});