BJP से जुड़ने का सर मुंडवा कर किया प्रायश्चित फिर गंगाजल से शुद्धि के बाद TMC में शामिल हुए 200 कार्यकर्ता - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | पश्चिम बंगाल| नया इंडिया|

BJP से जुड़ने का सर मुंडवा कर किया प्रायश्चित फिर गंगाजल से शुद्धि के बाद TMC में शामिल हुए 200 कार्यकर्ता

BJP sipporters are convertin to TMC

हुग्ली | बंगाल में एक के बाद एक लगातार भाजपा को झटके लग रहे हैं. इसके साथ ही भाजपा से टीएमसी में कार्यकर्ताओं के जाने का सिलसिला भी थमने का नाम नहीं ले रहा है. हालांकि यह जरूर देखा जा रहा है कि टीएमसी में जाने के लिए भाजपा के कार्यकर्ता कुछ भी कर गुजरने को तैयार हैं. इसके पहले खबर आई थी कि टीएमसी में शामिल होने के लिए कुछ कार्यकर्ता सड़क पर भूख हड़ताल के लिए बैठ गए जिसके बाद गंगाजल छिड़क कर उन्हें शामिल किया गया. आज फिर से बंगाल के हुग्ली से ऐसा ही एक मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार बिजली में भाजपा के 200 कार्यकर्ताओं ने अपना सर मुंडवा कर बीजेपी में शामिल होने का प्रायश्चित किया. उसके बाद गंगाजल से शुद्ध होकर टीएमसी में वापसी की.

flag of tmc and bjp

भाजपा से जुड़ने को बताया अपनी गलती

इन कार्यकर्ताओं से बात करने पर उन्होंने कहा कि भाजपा में जुड़ना इनकी सबसे बड़ी गलती थी. कार्यकर्ताओं का कहना है कि भाजपा में जुड़ने के कारण इनकी आत्मा भी अपवित्र हो गई. यही कारण है कि सर को मनवाने के बाद गंगाजल से स्नान करने पर ही टीएमसी में शामिल होना चाहते थे. उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि टीएमसी की ओर से उन्हें इस प्रकार का दबाव नहीं डाला गया था. जानकारी के अनुसार हुगली के आरामबाग इलाके से सांसद अपरुपा पोद्दार ने गरीबों के लिए मुफ्त भोजन की व्यवस्था की थी. वहीं पर ये कार्यकर्ता आ पहुंचे और बीजेपी से टीएमसी में वापस आने की मंशा जाहिर की.

इसे भी पढ़ें- श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मसले पर इंतजामिया कमेटी के सामने समझौते का प्रस्ताव, कहा- चौरासी कोस परिक्रमा के बाहर दे देंगे डेढ़ गुनी जमीन

बीरभूम में भी 300 कार्यकर्ता बैठे थे भूख हड़ताल पर

कुछ दिनों पहले बंगाल के ही वीर खून से भी ऐसी खबर मिली थी कि 300 के करीब भाजपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़कर टीएमसी का दामन थाम लिया. उस समय भी कार्यकर्ताओं के गंगाजल से शुद्धि की खबरें आई थी. दूसरी और भाजपा इसे जान का डर बता रही है. भाजपा विधायकों और सांसदों का कहना है कि कार्यकर्ता बेचारा क्या करे यदि उसे जिंदा रहना है तो उसे टीएमसी के साथ जाना ही पड़ रहा है. वरना टीएमसी के गुंडे बेचारे कार्यकर्ताओं को जीने नहीं देंगे.

इसे भी पढ़ें- Punjab Politics : नवजोत सिंह सिद्धू के इस बयान से खासा नाराज हैं राहुल गांधी, कैप्टन को दी टीम संभालने की सलाह

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *