95 हजार 650 करोड़ के बजट में कई लोक लुभावन घोषणाएं - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया|

95 हजार 650 करोड़ के बजट में कई लोक लुभावन घोषणाएं

रायपुर। छत्तीसगढ़ के आगामी वित्त वर्ष 2020-21 के आज 95 हजार 650 करोड़ रूपए के पेश बजट में राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू करने,दो वर्ष की सेवा पूरी कर चुके शिक्षाकर्मियों का शिक्षा विभाग में संविलियन करने के साथ ही किसानों एवं कमजोर वर्गों के लिए कई लोक लुभावन घोषणाएं की गई है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा विधानसभा में पेश बजट में कुल 96हजार 091 करोड़ रूपए की आय अनुमानित है।लगभग 441 करोड़ रूपए के अनुमानित बचत वाले बजट में 2500 रूपए क्विंटल में धान खरीदने के वादे को पूरा करने के लिए राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू करने का ऐलान किया गया है

इसके लिए पांच हजार 100 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। इस योजना के तहत समर्थन मूल्य एवं 2500 रूपए के अन्तर की राशि का भुगतान किसानों को किया जायेंगा। इसका लाभ चालू वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भी दिया जायेंगा। बजट में मुख्यमंत्री सुपोषण योजना शुरू करने की घोषणा की गई है,और इसके लिए 60 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। बजट में डा.खूबचन्द्र बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना में प्राथमिकता एवं अंत्योदय राशन कार्डधारी 65 लाख परिवारों के कैशलेस इलाज के लिए 550 करोड़ रूपए,मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत 50 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।

राज्य सरकार की सर्वाधिक प्राथमिकता वाले..नरवा,गरूवा,घुरूवा,बारी.. कार्यक्रम के लिए मनरेगा के तहत एक हजार 603 करोड़ रूपए का तथा राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में 400 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत 1600 करोड़ रूपए,जल जीवन मिशन योजना के लिए 225 करोड़ रूपए तथा नगरीय जल प्रदाय योजनाओं के लिए 124 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।

Latest News

कर्नाटक के बाद किसकी बारी?
भारतीय जनता पार्टी में अब इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि उत्तराखंड और कर्नाटक के बाद किसकी बारी है।…

By अजीत द्विवेदी

पत्रकारिता का 25 साल का सफर सिर्फ पढ़ने और लिखने में गुजरा। खबर के हर माध्यम का अनुभव। ‘जनसत्ता’ में प्रशिक्षु पत्रकार से शुरू करके श्री हरिशंकर व्यास के संसर्ग में उनके हर प्रयोग का साक्षी। हिंदी की पहली कंप्यूटर पत्रिका ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, टीवी के पहले आर्थिक कार्यक्रम ‘कारोबारनामा’, हिंदी के बहुभाषी पोर्टल ‘नेटजाल डॉटकॉम’, ईटीवी के ‘सेंट्रल हॉल’ और अब ‘नया इंडिया’ के साथ। बीच में थोड़े समय ‘दैनिक भास्कर’ में सहायक संपादक और हिंदी चैनल ‘इंडिया न्यूज’ शुरू करने वाली टीम में सहभागी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});