काेरोना पीड़ितों की ईलाज में लगे मैडीकल स्टाॅफ की एक्सग्रेशिया राशि बढ़ाई - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया|

काेरोना पीड़ितों की ईलाज में लगे मैडीकल स्टाॅफ की एक्सग्रेशिया राशि बढ़ाई

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमित लोगों के आइसोलेटिड वार्ड में डयूटी या कोविड टेस्टिंग लैब में तैनात और इस प्रकार के कार्य में लगे कर्मचारियों को दी जाने वाली 10 लाख रुपये की एक्स-ग्रेशिया राशि बढ़ाने का निर्णय लिया है।

खट्टर ने टेलीविजन के माध्यम से आज यह घोषणा करते हुये कहा कि अब डॉक्टरों के लिए एक्स-ग्रेशिया राशि को 50 लाख रुपये, नर्सों के लिए 30 लाख रुपये और अन्य कर्मचारी, चाहे पक्के हों या अनुबंध पर, के लिए 20 लाख रुपये की गई है।

इसे भी पढ़ें :- हरियाणा ने कोविड-19 संकट के लिए बनाया कॉल सेंटर

उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसानों को भी चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि सरकार उनके अनाज के एक-एक दाने की खरीद करेगी। हालांकि फसल की खरीद में कुछ देरी हो सकती है, लेकिन खरीद अवश्य की जाएगी। वर्तमान परिस्थितियों में 14 अप्रैल, 2020 तक खरीद करना सम्भव नहीं है, इसलिए परिस्थितियों के अनुकूल होते ही 15 अप्रैल और 20 अप्रैल से क्रमश: सरसों और गेहूं की खरीद की व्यवस्था की जाएगी।

उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि जितना सम्भव हो सके वे अपनी फसल को घर में स्टोर करें और सम्भव न हो पाए तो मार्किटिंग बोर्ड की मदद ली जाएगी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन और खरीद में देरी के कारण किसानों को हो रहे नुकसान की भरपाई की व्यवस्था के लिए शीघ्र ही राज्य सरकार एक योजना की घोषणा करेगी। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे जानकारी देते हुए कहा कि वे सोशल मीडिया और अन्य अफवाहों से भ्रमित न हों। सरकार लोगों की सुविधा के लिए हर प्रकार के प्रबंध कर रही है और उसने एक वैबसाइट covidssharyana.in शुरू की है।

इसे भी पढ़ें :- गोवा में कोरोना के 33 नहीं, केवल 3 मरीज : स्वास्थ्य मंत्री

जिस पर राशन, करियाना, दूध, सब्जी और फल और दवाइयों आदि की आपूर्ति करने के इच्छुक व्यक्ति अपना पंजीकरण करा सकते हैं। इसके अतिरिक्त, स्वैच्छिक सेवा के लिए भी इस पर पंजीकरण कराया जा सकता है।  यह वैबसाइट इसलिए शुरू की गई है ताकि लोगों को रोजमर्रा की जरूरत की चीजें समय पर मिल सकें। इस वैबसाइट पर पंजीकरण कराने वाले लोगों को ई-पास जारी किए  जाएंगे उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 14 अप्रैल, 2020 तक घोषित किया गया।

सम्पूर्ण भारत लॉकडाउन कोरोना वायरस से लोगों की स्वयं की, परिवार की और समाज की सुरक्षा ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण मानवता की सुरक्षा है। पूरा विश्व इस जंग से जूझ रहा है। सभी को आपसी मतभेदों से ऊपर उठकर विश्व सुरक्षा के लिए मिलकर लड़ने का संकल्प लेना होगा और इसे हम लॉकडाउन से सोशल डिस्टेसिंग अर्थात एलडी से एसडी बनाकर रहेंगे तभी हम इस बीमारी को जड़ से खत्म कर सकते हैं। कोरोना हरियाणा से हारेगा और कोरोना भारत से भागेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *