भारत बंद : जानें, राजस्थान में बंद का कहां और कितना दिखा असर - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

भारत बंद : जानें, राजस्थान में बंद का कहां और कितना दिखा असर

Jaipur: नये कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा (kisan morcha) के आह्वान पर आयाेजित भारत बंद का राजस्थान (rajasthan) में मिला-जुला असर देखने को मिला. हालांकि श्रीगंगानगर ( shri ganganagar)  एवं बीकानेर (Bikaner) जिले में बंद का काफी असर देखने को मिला.  श्रीगंगानजर जिले के रायसिंहनगर कस्बे के बाजार बंद नबर आए.  इसके अलावा किसानों ने राज्य के कई प्रमुख  मार्गों को पर  चक्का जाम कर रखा . इनमें ट्रक यूनियन , 11 टीके फाटक, समेजा, बाजूवाला, मुकलावा में भी चक्का जाम चल रहा . इस दौरान किसान नये कृषि कानूनों (Agricultural laws) को वापस लेने की मांग करते हुए केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते नजर आए. सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए मौके पर प्रशासन भी सचेत नजर आया. सड़कों पर प्रशासन की भारी तैनाती की गयी.

जयपुर में दिखा बंद का दिखा मिला-जुला असर

राजधानी जयपुर में बंद का मामूली असर दिखा. जयपुर शहर में धीरे धीरे दुकानें खुल गई. लोग भी आम दिनों की ही तरह अपने कामों में जाते दिखे. हालांकि अहले सुबह लोगों में बंद को लेकर थोड़ी असमंजस की स्थिति जरूर थी. लेकिन दिन के चढ़ने के साथ ही लोग अपने कामों में जाते दिखाई दिये.  बाजारों की स्थिति भी लगभग आम लोगों की ही तरह दिखीं. शहर में मोर्चा के लोग भी बंद का समर्थन एवं प्रदर्शन करते नजर नहीं आए. शहरी इलाके में अधिकतर बाजार सुबह दस बजे के बाद ही खुलते हैं. ऐसे में व्यापारी भी सामान्य दिनों की ही तरह दुकान खोलने पहुंचे.

इसे भी पढें- विधायी कामों के लिए समय नहीं

बीकानेर में दिखा बंद का असर

राजस्थान के बीकानेर में बंद का काफी असर देखने को मिला. किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की इसके साथ ही शहरी इलाके में दुकानें बदं कराते नजर आए. बंद के कारण  मुख्य बाजार की अधिकतर दुकानें बंद रही. बंद को लेकर प्रदर्शन कर रहे नेता रामगोपाल ने बताया कि बंद की अपील के समर्थन में 95 प्रतिशत दुकाने अपनी मर्जी से बंद हैं. उन्होंने कहा कि जब तक नये कृषि कानून वापस नहीं हाेंगे, उनका आंदोलन जारी रहेगा. प्रदर्शन के दौरान इंटक नेता एवं भीम सेना के लोग भी प्रदर्शन में शामिल थे.

इसे भी पढें- दिल्ली के बिल पर कृषि बिल की कहानी!

कोटा में ना के बराबर असर

कोटा में भी बंद का असर ना के बराबर दिखा.  हालांकि कई किसान नेताओं ने फल सब्जी मंडी  पहुंचकर मंडी को बंद करा दिया . इसके बाद  मंडी के बाहर किसानों ने प्रदर्शन किया और किसान नेताओं ने अपना संबोधन भी दिया.  बंद का कोई भई असर कोटा में बस, रेल तथा अन्य आवागमन के साधन पर कोई असर नजर नहीं आया.

सीएम ने राहुल गांधी के ट्वीट को दोहराया

CM अशोक गहलोत ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के ट्वीट को दोहराते हुए कहा कि भारत का इतिहास गवाह है कि सत्याग्रह से ही अत्याचार, अन्याय एवं अहंकार का अंत होता है. आंदोलन देश हित में हो और शांतिपूर्ण हो.

इसे भी पढें- Rajasthan: नोटों की होली जलाने वाले तहसीलदार के लिए पूर्व मंत्री बोले भरतसिंह यह रेयर आफ रेयरेस्ट मामला, बर्खास्त कर दो

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *