India china border dispute भारत-चीन के सैन्य कमांडरों ने की वार्ता
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| India china border dispute भारत-चीन के सैन्य कमांडरों ने की वार्ता

भारत-चीन के सैन्य कमांडरों ने की वार्ता

china new border law

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में तनाव कम करने और विवाद के कई बिंदुओं से सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया तय करने के लिए रविवार को भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच वार्ता हुई। कोर कमांडर स्तर की 13वें दौर की वार्ता सुबह साढ़े 10 बजे शुरू हुई थी और साढ़े आठ घंटे चलने के बाद शाम सात बजे समाप्त हुई। यह वार्ता वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के हिस्से वाले मोल्डो में हुई। भारतीय टीम का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन ने किया। चीनी पक्ष का नेतृत्व दक्षिण शिनजियांग जिले के सैन्य कमांडर मेजर जनरल लियू लिन कर रहे थे। India china border dispute

India china border dispute

Read also कोरोना से जंग में जीत की ओर भारत, लगाई गई 95 करोड़ वैक्सीन डोज, तय समय से पहले ही पार होगा 100 करोड़ का आंकड़ा

दोनों देशों के बीच लद्दाख सीमा पर सैनिक गतिरोध लंबे समय से बना हुआ है। बताया गया था कि रविवार को हॉट स्प्रिंग में तैनात सैनिकों की वापसी पर चर्चा होगी। दोनों पक्षों के बीच सैन्य स्तर पर 12 दौर की बातचीत हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई ठोस समाधान नहीं निकला है। इससे पहले शनिवार शाम सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि चीन अपने इलाके में बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रहा है। इसका मतलब है कि वह यहां लंबे समय तक रुकने वाला है।

Read also Akhilesh Yadav ने योगी सरकार पर चलाए तीखें बाण, सहारनपुर रैली में BJP को बताया सिर्फ नाम बदलने वाली सरकार

सेना प्रमुख जनरल नरवणे ने यह भी कहा था कि दोनों ही देश एलएसी के पश्चिमी इलाके में बुनियादी ढांचे का विकास कर रहे हैं, जो कि पिछले साल लाए गए अतिरिक्त सैनिकों और सैन्य उपकरणों की सुविधा के लिए बनाए जा रहे हैं। उन्होंने पिछले हफ्ते पूर्वी लद्दाख के दौरे के दौरान भी इसी तरह की टिप्पणी की थी। गौरतलब है कि पैंगोंग झील और गोगरा पोस्ट के उत्तर व दक्षिण तट पर सैनिक पीछे हट गए हैं, लेकिन हॉट स्प्रिंग्स पर डटे हुए हैं। इसके अलावा देपसांग में भी गतिरोध जारी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
लोकतंत्र का संकट काल
लोकतंत्र का संकट काल