भारत का विकास दर 5.8 फीसदी रहने का अनुमान: ओईसीडी

नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी ओईसीडी ने आज अपनी रपट में कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद(जीडीपी) की वृद्धि दर 5.8 प्रतिशत रहेगी। हाल ही में दूसरी तिमाही के लिए आधिकारिक जीडीपी 4.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था और उसके बाद से यह पहला अंतर्राष्ट्रीय वृद्धि दर अनुमान है।

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) एक अंतरसरकारी आर्थिक संगठन है, जिसमें 36 देश शामिल हैं। इसकी स्थापना 1961 में आर्थिक प्रगति और विश्व व्यापार को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से हुई थी।

सर्वेक्षण में बताया गया है कि कई वर्षो के बेहतरीन वृद्धि के बाद 2019 में जीडीपी दर 5.8 फीसदी तक गिरने के बाद यह 2020 में 6.2 फीसदी और 2021 में 6.4 फीसदी तक की रफ्तार पकड़ लेगा। ओईसीडी ने अपने सर्वेक्षण में कहा, उच्च स्तर पर वृद्धि को बहाल करना नौकरियों के सृजन के लिए जरूरी है और निवेश और निर्यात में तेजी लाने के लिए ढांचागत सुधारों की गति तेज करने की आवश्यकता है।

भारत ने 1990 के दशक में टैरिफ में गिरावट के बाद से अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में भागीदारी बढ़ाई है। 2018 में देश की वैश्विक वस्तु एवं सेवा निर्यात में हिस्सेदारी बढ़कर 2.1 प्रतिशत हो गई थी, जोकि 1990 के दशक के शुरुआती समय से 0.5 प्रतिशत अधिक था। इसकी कारण सूचना प्रौद्योगिकी और चिकित्सा के क्षेत्र में जबरदस्त प्रदर्शन करना था।

इसे भी पढ़ें :- उन्नाव रेप कांड पर राज्यसभा में हंगामा, कार्यवाही स्थगित

इसके अलावा अन्य आधारभूत संबंधी बाधाओं को बंदरगाहों का आधुनिकीकरण करके और सड़कों का निर्माण करके दूर करना भारत की प्रतिस्पर्धा को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण होगा। ओईसीडी ने कहा, “सेवा व्यापार प्रतिबंधों में बहुपक्षीय कटौती का भारत सबसे बड़ा लाभार्थी होगा। यहां तक कि बिना बहुपक्षीय समझौते के, नियमों के निरीक्षण को लेकर आगे बढ़ने का सकारात्मक प्रभाव होगा।

सर्वेक्षण के अनुसार, हाल के वर्षो में हालांकि लाखों भारतीय गरीबी से बाहर निकले हैं, लेकिन कईयों को औपचारिक रोजगार सुविधाएं नहीं मिली है। जटिल श्रम कानूनों को और सरल करने से देश के तेजी से बढ़ते पढ़े-लिखे युवा आबादी की गुणवत्तापूर्ण नौकरियों में हिस्सेदारी बढ़ेगी, जहां अधिकांश रोजगार अनौपचारिक हैं।

रपट के अनुसार, ओईसीडी आर्थिक सर्वेक्षण : इंडिया रपट के 2019 अंक में अुनमान लगाया गया है कि भारत का जीडीपी वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए 5.8 प्रतिशत की वृद्धि हासिल करेगा। वृद्धि में कमी 2018 के मध्य से होनी शुरू हुई है, जो निजी खपत में तेजी से कमी को दर्शाता है। रपट में जहां भारत के लिए कम जीडीपी वृद्धि का अनुमान लगाया गया है, लेकिन साथ ही कहा गया है कि हालिया आर्थिक सुस्ती के बावजूद देश ग्रोथ चैंपियन बना रहेगा। 2020 के लिए सर्वेक्षण में भारत की जीडीपी को 6.2 प्रतिशत तो 2021 में 6.4 प्रतिशत दर्शाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares