nayaindia Indonesia football match Joko Widodo इंडोनेशिया में बड़ा हादसाः भगदड़ में 174 लोगों की मौत
ताजा पोस्ट | विदेश| नया इंडिया| Indonesia football match Joko Widodo इंडोनेशिया में बड़ा हादसाः भगदड़ में 174 लोगों की मौत

इंडोनेशिया में बड़ा हादसाः भगदड़ में 174 लोगों की मौत

मलंग। मलंग। इंडोनेशिया (Indonesia) में शनिवार रात एक फुटबॉल मैच (football match) के बाद मची भगदड़ में 175 लोगों की मौत हो गई और करीब सौ से ज्यादा लोग घायल है। यह हादसा दुनिया में किसी खेल स्पर्धा में हुए सबसे बड़े हादसों में से एक है। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो (Joko Widodo) ने रविवार को टेलीविजन पर दिए भाषण में हादसे पर गहरा शोक व्यक्त किया।

दरअसल, मैच के बाद हुए विवाद को शांत करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे, जिसके चलते प्रशंसकों के बीच भगदड़ मच गई और ज्यादातर लोगों की मौत कुचल जाने के कारण हुई है।

पूर्वी जावा प्रांत के मलंग शहर में शनिवार शाम को आयोजित फुटबॉल मैच में मेजबान अरेमा एफसी सुरबाया की पर्सेबाया टीम से 3-2 से हार गई, जिसके बाद प्रशंसकों के बीच झड़पें शुरू हो गईं। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अपनी टीम की हार से निराश अरेमा के हजारों समर्थकों ने खिलाड़ियों और फुटबॉल अधिकारियों पर बोतलें तथा अन्य सामान फेंके। प्रशंसक कंजुरुहान स्टेडियम के मैदान पर

मलंग। इंडोनेशिया (Indonesia) में शनिवार रात एक फुटबॉल मैच (football match) के बाद मची भगदड़ में 175 लोगों की मौत हो गई और करीब सौ से ज्यादा लोग घायल है। यह हादसा दुनिया में किसी खेल स्पर्धा में हुए सबसे बड़े हादसों में से एक है। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो (Joko Widodo) ने रविवार को टेलीविजन पर दिए भाषण में हादसे पर गहरा शोक व्यक्त किया।

दरअसल, मैच के बाद हुए विवाद को शांत करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे, जिसके चलते प्रशंसकों के बीच भगदड़ मच गई और ज्यादातर लोगों की मौत कुचल जाने के कारण हुई है।

पूर्वी जावा प्रांत के मलंग शहर में शनिवार शाम को आयोजित फुटबॉल मैच में मेजबान अरेमा एफसी सुरबाया की पर्सेबाया टीम से 3-2 से हार गई, जिसके बाद प्रशंसकों के बीच झड़पें शुरू हो गईं। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अपनी टीम की हार से निराश अरेमा के हजारों समर्थकों ने खिलाड़ियों और फुटबॉल अधिकारियों पर बोतलें तथा अन्य सामान फेंके। प्रशंसक कंजुरुहान स्टेडियम के मैदान पर उमड़ पड़े और उन्होंने अरेमा प्रबंधन से पूछा कि घरेलू मैचों में 23 वर्ष तक अजेय रहने के बाद टीम यह मैच कैसे हार गई।

स्टेडियम के बाहर भी हिंसा शुरू हो गई और पुलिस के कम से कम पांच वाहनों को फूंक दिया गया। दंगा रोधी पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे, जिससे भगदड़ मच गई। फीफा ने फुटबॉल स्टेडियम में आंसू गैस के गोले छोड़ने पर प्रतिबंध लगा रखा है।

आंसू गैस से बचने के लिए सैकड़ों लोग निकासी द्वार की ओर भागे, जिससे कुछ लोगों की दम घुटने और कुचल जाने से मौत हो गई। अराजकता की इस स्थिति में दो अधिकारियों समेत 34 लोगों की स्टेडियम में ही मौत हो गई। मृतकों में बच्चे भी शामिल हैं।

पूर्वी जावा के पुलिस प्रमुख निको अफिंता ने रविवार सुबह एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हमने प्रशंसकों के पुलिस पर हमला करने पर आंसू गैस दागने से पहले एहतियाती कार्रवाई भी की थी। प्रशंसक वाहनों को फूंक रहे थे।

अफिंता ने बताया कि 300 से अधिक लोगों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन कई लोगों ने रास्ते में और कई ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि अस्पताल में भर्ती 180 घायलों में से कई की हालत लगातार बिगड़ रही है, ऐसे में मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

इंडोनेशिया के फुटबॉल संघ पीएसएसआई ने इस हादसे को देखते हुए प्रीमियर फुटबॉल लीग लीगा-1 को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया है। उसने अरेमा को बाकी के सत्र के लिए फुटबॉल मैचों की मेजबानी करने से भी प्रतिबंधित कर दिया है।

टेलीविजन पर आ रही खबरों में पुलिस और बचावकर्मियों को घायलों तथा मृतकों को एंबुलेंस में ले जाते हुए देखा गया। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने रविवार को टेलीविजन पर दिए भाषण में हादसे पर गहरा शोक व्यक्त किया। विडोडो ने युवा एवं खेल मामलों के मंत्री जैनुद्दीन अमाली, राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख और पीएसएसआई अध्यक्ष को देश में फुटबॉल मैच तथा उसकी सुरक्षा प्रक्रियाओं का विस्तृत मूल्यांकन करने का आदेश दिया है। उन्होंने पीएसएसआई को लीगा-1 को अस्थायी रूप से स्थगित करने का भी आदेश दिया है।

इंडोनेशिया में 2023 अंडर-20 फुटबॉल विश्वकप 20 मई से 11 जून तक होना है और 24 टीमें इसमें हिस्सा ले रही हैं। मेजबान देश के तौर पर इंडोनेशिया ने इस विश्वकप के लिए क्वालिफाई कर लिया है। अमाली ने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण रूप से इस घटना ने निश्चित तौर पर हमारी फुटबॉल प्रशंसक देश की छवि को नुकसान पहुंचाया है।

मलंग के स्थानीय पुलिस प्रमुख फेर्ली हिदायत ने बताया कि शनिवार को मैच के दौरान स्टेडियम में करीब 42,000 दर्शक मौजूद थे। उन्होंने कहा कि ये सभी अरेमा समर्थक थे, क्योंकि आयोजकों ने विवाद से बचने के लिए स्टेडियम में पर्सेबाया प्रशंसकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − 10 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चुनावों से पूर्व साणंद के SDM की मौत, फ्लैट की 5वीं मंजिल से गिरे, हत्या या आत्महत्या? जांच में पुलिस
चुनावों से पूर्व साणंद के SDM की मौत, फ्लैट की 5वीं मंजिल से गिरे, हत्या या आत्महत्या? जांच में पुलिस