त्रिपुरा में भाजपा से नाराज हुआ उसका सहयोगी दल - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

त्रिपुरा में भाजपा से नाराज हुआ उसका सहयोगी दल

अगरतला। त्रिपुरा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और उसके सहयोगी दल इंडिजीनिस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) के बीच आदिवासियों के विकास के मुद्दों को लेकर टकराव बढ़ता ही जा रहा है।

इस बीच, आईपीएफटी की ओर से त्रिपुरा आदिवासी क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (एडीसी) के मुख्यालय पर बुलाया गया 24 घंटे का बंद शांतिपूर्ण रहा और आज सुबह समाप्त हो गया। आईपीएफटी अपने एक समर्थक की गिरफ्तारी का भी विरोध कर रहा है।

यह हड़ताल शांतिपूर्ण रही और इस दौरान कोई भी अप्रिय घटना नहीं हुई। आईपीएफटी के नेताओं और विधायकों ने मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के नेतृत्व वाली सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि यदि सरकार आदिवासियों के विकास से जुड़े हुए मुद्दों पर ध्यान नहीं देगी तो गठबंधन टूट सकता है।

आईपीएफटी के विधायक बृषकेटु देबबर्मा ने कल खुमलंग में समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा गठबंधन के सिद्धांतों का पालन नहीं कर रही है और गैर-जरूरी वक्तव्य देकर लोगों को मूर्ख बना रही है। आईपीएफटी के समर्थक आदिवासियों के विकास से जुड़े हुए मुद्दों को उठा रहे हैं लेकिन पुलिस उन्हें बेवजह परेशान कर रही है।

आईपीएफटी नेता ने कहा, त्रिपुरा सरकार में गठबंधन सहयोगी होने के कारण लोग हमसे भाजपा की ओर से किए गए चुनावी वादों के बारे में पूछ रहे हैं। भाजपा ने चुनाव से पहले बहुत बड़े-बड़े वादे किए थे जिन पर आम जनता की तरह हमने भी विश्वास कर लिया था, लेकिन अब वे झूठे प्रतीत हो रहे हैं। हम विधायक के तौर पर अपने-अपने क्षेत्रों में विरोध का सामना कर रहे हैं। विधायकों के पास कोई शक्ति नहीं है और ऐसा लगता है कि धीरे-धीरे सत्ता काे केन्द्रित किया जा रहा है।

Latest News

बिगबॉस 15 में जब ये हसीनाएं मारेगी एंट्री तो दिल में बजेगी घंटी, जानें कौन होगा घर में तड़का लगाने के लिए..
कहा जा रहा है कि जैसे ही कोई सदस्य घर से बेघर होगा किसी किसी नए सदस्य की एंट्री होगी। बिगबॉस 15…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});