nayaindia Kalkaji Temple Closed for Devotees: कालकाजी मंदिर में भक्तों का प्रवेश बंद
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Kalkaji Temple Closed for Devotees: कालकाजी मंदिर में भक्तों का प्रवेश बंद

दिल्ली में कोरोना का कोहराम! पाबंदियों के बीच अब कालकाजी मंदिर में भक्तों का प्रवेश बंद

नई दिल्ली | देश की राजधानी कोरोना संक्रमण मामले में इस बार महाराष्ट्र को पीछे छोड़ चुकी है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। जिसके चलते दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने यहां तमाम पाबंदियां भी लगा दी है। केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में येलो अलर्ट जारी कर दिया है और नई गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन करवाया जा रहा है। इसी बीच कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद आज दिल्ली के जग प्रसिद्ध कालकाजी मंदिर (Kalkaji Temple Closed for Devotees) में भक्तों का प्रवेश बंद कर दिया गया है। आपको बता दें कि, इससे पहले महाराष्ट्र में भी बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर साई बाबा मंदिर में रात के दर्शन भक्तों के लिए बंद कर दिए गए थे।

ये भी पढ़ें:- देश में और लग सकती हैं पाबंदियां! 24 घंटे में कोरोना के 13 हजार पार नए मामले, 268 की मौत, 961 हुआ ओमिक्राॅन आंकड़ा

पुजारी बोले- सरकार करेगी भक्तों के लिए फिर से खोलने का फैसला (Kalkaji Temple Closed for Devotees) 
दिल्ली में स्थित कालकाजी मंदिर देशभर में प्रसिद्ध हैं और यहां बाहर से आने वाले हजारों की संख्या में भक्तों की भीड़ लगती है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कालकाजी मंदिर (Kalkaji Temple) के महंत सुरेंदर नाथ अवधूत ने जानकारी देते हुए कहा कि मंदिर में आज गुरूवार से भक्तों का प्रवेश बंद कर दिया गया है। मंदिर में आरती और पूजा पहले की तरह ही चालू रहेगा। भक्तों के लिए मंदिर को फिर खोलने को लेकर अब सरकार फैसला करेगी।

ये भी पढ़ें:- महात्मा गांधी के खिलाफ विवादित बयान देने वाले कालीचरण महाराज गिरफ्तार, कहा- मुझे इसका कोई अफसोस नहीं

Corona Blast In Maharashtra :

दिल्ली में 30 मई के बाद दर्ज किए गए सबसे ज्यादा
दिल्ली देश की राजधानी है और यहां पूरे भारत से लोग हर रोज आते हैं ऐसे में बढ़ते संक्रमण को लेकर दिल्ली सरकार ने यहां पाबंदियां लगाना शुरू कर दिया है। दिल्ली में बीते बुधवार को कोरोना के 923 नए मामले सामने आए हैं जो 30 मई के बाद सबसे ज्यादा है। दिल्ली में अभी भी कोरोना से पीड़ित 2 हजार 191 मरीजों का इलाज चल रहा है। जिनमें 55 लोग तो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। यहीं नहीं, राजधानी में ओमिक्रॉन के मामले भी देश के सबसे ज्यादा है। यहां 263 ओमिक्रॉन के मामले सामने आ चुके हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.

seven + eight =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
नकवी और आरसीपी कब इस्तीफा देंगे?
नकवी और आरसीपी कब इस्तीफा देंगे?