संसद में कानून बनाकर लागू हो कर्पूरी ठाकुर फार्मूला

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर फार्मूला के तहत अत्यन्त पिछड़ा वर्ग (ईबीसी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) आरक्षण को दो वर्गों में वर्गीकरण करने और संसद में कानून बनाकर उनके फार्मूले को लागू कराने की मांग की गयी है।

इस संबंध में जननायक कर्पूरी ठाकुर विचार मंच स्मारक न्यास की ओर से उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर राजधानी के जंतर-मंतर पर दो दिवसीय धरने का आयोजन किया गया। न्यास ने कर्पूरी ठाकुर फार्मूले के तहत ईबीसी और ओबीसी आरक्षण का दो वर्गों में वर्गीकरण के साथ ही जस्टिस रोहिणी आयोग की रिपाेर्ट को तय समय सीमा के भीतर जमा कराने और संसद में कानून बनाकर इसे लागू कराने की मांग की है।

न्यास ने कर्पूरी ठाकुर फार्मूला के तहत ईबीसी के विकास हेतु दो वर्गाें में वर्गीकृत कर ईबीसी को बजट राशि में 50 हजार करोड़ रुपये आवंटित करने तथा केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में विकास एवं शिक्षण मद, राज्य स्तरीय विश्वविद्यालयों में जननायक कर्पूरी ठाकुर कल्याण छात्रावास केे निर्माण की भी मांग की गयी है। न्यास ने जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न से भी सम्मानित करने की मांग की गयी है। गौरतलब है कि केन्द्रीय बजट 2020-21 में अनुसूचित जाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 85 हजार करोड़ रुपये तथा अनुसूचित जनजाति के लिए 53700 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares