सामान्य जनजीवन के बाद फिर से बंद कश्मीर

NI

श्रीनगर। कश्मीर में 5 अगस्त के बाद पहली बार कुछ दिनों तक व्यापार बहाल होने के बाद बाजार फिर से बंद हो गए हैं। यह बंदी धमकी भरे पोस्टरों के मद्देनजर हुई है। बंद के कारण सबसे ज्यादा नुकसान उठाने वाले सार्वजनिक परिवहन भी सड़कों से हट गए हैं।

अनुच्छेद 370 को 5 अगस्त को रद्द किए जाने के बाद से कश्मीर में 100 दिनों से ज्यादा समय तक इंटरनेट बंद रहा है। अनुच्छेद 370 के कदम के बाद कश्मीर में व्यापार सुबह व शाम में सिर्फ कुछ घंटों के लिए खुले हैं। सामान्य जनजीवन के संकेत पहली बार 7 नवंबर की बर्फबारी के बाद दिखाई दिए, जब बाजार पूरे दिन खुले रहे।
सार्वजनिक परिवहन भी सड़कों पर शुरू हो गया। हालांकि, संदिग्ध आतंकवादियों के दुकानदारों को पोस्टरों के जरिए बंद के उल्लंघन को लेकर चेतावनी दिए जाने के बाद सामान्य जनजीवन फिर से रुक गया है। पोस्टरों में दुकान खोलने या अन्य सामान्य गतिविधि में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की धमकी दी गई है।
श्रीनगर के लाल चौक के एक दुकानदार ने कहा, “बीते सप्ताह मैंने अपनी दुकान शाम 6 बजे तक खोली थी, लेकिन दो दिनों से मैंने अपनी दुकान बंद कर दी है, यहां तक कि सुबह व शाम में भी नहीं खोल रहा।”

श्रीनगर के जिलाधिकारी शाहिद इकबाल चौधरी ने श्रीनगर के निवासियों को अपना व्यापार सामान्य रूप से करने वालों को धमकी देने वाले अराजक तत्वों को सख्त चेतावनी दी है। चौधरी ने कहा, “इस तरह की युक्ति का मकसद आबादी के बीच भय पैदा करना है।” उन्होंने आम जनता को भरोसा दिया कि जिला प्रशासन, जिला पुलिस के साथ हालात पर करीब से नजर बनाए हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares