ना राम खुश होंगे ना रहीम : कोरोना संक्रमण के डर से बेपरवाह किसान नेता इफ्तार पार्टी कर दे रहे हैं कौमी एकता का संदेश - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया|

ना राम खुश होंगे ना रहीम : कोरोना संक्रमण के डर से बेपरवाह किसान नेता इफ्तार पार्टी कर दे रहे हैं कौमी एकता का संदेश

New Delhi. एक ओर तो देश कोरोना से परेशान है तो दूसरी ओर लोगों की लारवाही की खबरें और भी ज्यादा परेशान कर  रही है. ताजा मामला किसान आंदोलन ( kissan Andolan) से जुड़ा है. कोरोना के कहर के कारण देश में बेड कम पड़ जा रहे हैं. केंद्र और राज्य की सरकारें (Central and state govt)  लगातार लोगों से शारीरिक दूरी और मास्क के प्रयोग करने की अपील कर रही है. लेकिन इन सबसे बेपरवाह  दिल्ली की सीमा पर बैठे किसान नेता अभी भी अपनी मनमानी कर रहे हैं. वो अपने ही बनाए हुए नियम फॉलो कर रहे हैं.  किसान आंदोलन में डटे ये किसान  न तो शारीरिक दूरी का पालन कर रहे हैं और ना ही मास्क पहने ही दिखाई दे रहे हैं.वीडियो के वायरल होने के बाद से लोग इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं.

इफ्तार पार्टी का हो रहा है आयोजन

दिल्ली में कोरोना का संक्रमण करह बरसा रहा है. जिसे देखते हुए सीएम केजरीवाल ने कई तरह के बैन लगाए हुए हैं. लेकिन किसान आंदोलन के नाम पर ये किसान नेता अभी भी बॉर्डर पर डटे हुए हैं. यहां  इफ्तार पार्टी का आयोजन किया जा रहा है. इफ्तार पार्टी में एक दो नहीं दर्जनों लोग शामिल हो रहे हैं. ऐसे में ना तो सोशल डिस्टेंसिंग का ही ख्याल रखा जा रहा है और ना ही मास्क का ही प्रयोग हो रहा है. तस्वीरों को देखते हुए इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन्हें कोरोना की कितनी पड़ी है.

किसान संगठनों ने ही जारी किया वीडियो

बता दें कि किसान नेताओं और  संगठन की ही ओर से ही ये वीडियो जारी किया गया है.  वीडियो में किसान नेता सोशल डिस्टेसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाते दिख रहे हैं. बताया जा रहा है कि  ये वीडियो 15 अप्रैल का है जो किसान संगठन की ओर से ही जारी किया गया था.  वीडियो में किसान यूनियन के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव टिकैत और यूपी के प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन भी दिख रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- कोरोना अपडेट : 18 से वर्ष से अधिक लोग कोविन ऐप से करवा सकेंगे रजिस्ट्रेशन, पीएम ने कहा- कोरोना से लड़ाई में वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार

कौमी एकता का बताया था परिचायक

सामूहिक भोज की व्यवस्था के बारे में बताते  गौरव टिकैत ने  कहा था कि  इसमें हिन्दू और मुस्लिम सभी ने एक साथ बैठकर फलाहार ग्रहण किया था.  इस मौके पर उन्होंने ये भी कही था कि  हमारे देश की संस्कृति हिंदू मुस्लिम कौमी एकता की परिचायक है.  हमारे यहां किसानों में हमेशा से ही इसी तरह भाईचारा बना हुआ है. यह सिर्फ राजनीतिक लोग हैं जो हिंदू-मुस्लिम को लड़ाने का काम करते हैं. सरकार इस बात को ध्यान से निकाल दे कि हम लोगों के बीच में किसी भी तरह से धर्म को लेकर विवाद किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- Corona: यहां सिर्फ 4 घंटे के लिए खुलेंगे Bank, आज से नए नियम लागू, जानें क्या रहेगा खुलने का समय

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
दिल्ली दंगा: नताशा, देवांगना को मिली जमानत
दिल्ली दंगा: नताशा, देवांगना को मिली जमानत