सबसे ज्यादा आबादी वाला देश चीन अपनी घटती जनसंख्या से है परेशान, अब 3 बच्चे पैदा करने की होगी अनुमति - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | विदेश| नया इंडिया|

सबसे ज्यादा आबादी वाला देश चीन अपनी घटती जनसंख्या से है परेशान, अब 3 बच्चे पैदा करने की होगी अनुमति

New Delhi: दुनिया की सबसे बड़ी आबादी वाला देश चीन अब अपनी घटती जनसंख्या से परेशान है. अगर आपको इस बात पर यकीन नहीं हो रहा है, तो पता दें कि आज चीन ने घोषणा की है कि अब उनके देश में 3 बच्चों के पैदा करने के लिए अनुमति होगी. बता दें की 2016 में ही चीन अपनी पुरानी नीति को समाप्त कर चुका है जिसमें सिर्फ 1 बच्चा पैदा करने की अनुमति दी गई थी. जानकारी के अनुसार 2016 से लेकर 2020 तक में चीन में बच्चों के जन्म में निरंतर वृद्धि हुई है. यही कारण है कि चीन में एक बार फिर से अपने नियमों में बदलाव करते हुए 3 बच्चे पैदा करने की इजाजत दी है. बता दें चीन में हाल में ही वहां के जनगणना के आंकड़े सामने आए थे. आंखों में स्पष्ट था कि 1950 के बाद से पिछले दशक में चीन की जनसंख्या सबसे धीमी दर से बढ़ी है. आंकड़े बताते हैं कि 2020 में चीन की लगभग हर महिला ने औसत रूप से 2 बच्चों को भी जन्म नहीं दिया.

जनसंख्या में आई कमी से परेशान है ड्रैगन

बता दें कि चीन दुनिया के सभी की सबसे ज्यादा आबादी वाले देशों में से एक है. जनसंख्या में आया बड़ों के अनुसार अगले साल तक की संख्या में भारी गिरावट हो सकती है. चीन की जनसंख्या घटने के कारण यहां श्रमिकों और वस्तुओं के उपभोग में भी काफी कमी आने की संभावना व्यक्त की जा रही है. बता दें कि चीन की जनसंख्या ही उसकी ताकत है क्योंकि चीन ने मजदूरों का खासा योगदान रहता है यही कारण है कि वस्तुओं के निर्यात में आज चीन दूसरे देशों से कहीं आगे हैं. ऐसे में देश की घटती जनसंख्या चीन के शासकों को बिल्कुल पसंद नहीं आ रही है, यही कारण है कि चीन लगातार अपने नियमों में बदलाव कर इसे कंट्रोल करना चाह रहा है.

इसे भी पढ़ें-  Right or Wrong: प्रेम प्रंसंग में युवक की आत्महत्या करने के बाद, नाराज दोस्तों और परिजनों ने शव का अंगूठा काटकर प्रेमिका की भरवा दी मांग

2027 तक भारत होगा सबसे ज्यादा आबादी वाला देश

चीन के मुकाबले में भारत में बढ़ती जनसंख्या अभी भी परेशानी का सबब बनी हुई है. माना जा रहा है कि 2027 तक भारत दुनिया के सबसे ज्यादा आबादी वाले इस देश के मामले में चीन को भी पीछे छोड़ देगा. ऐसे ने चीन की तर्ज पर भारत को भी जनसंख्या पर ध्यान देने की आवश्यकता है वरना हालत गंभीर हो सकते हैं. दूसरी ओर भारत के विपरीत चीन अब अपनी जनसंख्या को बढ़ाने पर ध्यान दे रहा है. इसके पीछे का कारण 2010 में संपन्न कराए गए जनगणना के आंकड़े हैं. चीन में हुए इस जनगणना में यह साफ हुआ है कि चीन में लगातार बुजुर्गों की संख्या बढ़ रही है. आंकड़ों के अनुसार अगर स्थिति को नहीं बदला गया तो आने वाले 12 सालों के बाद चीन ने बुड्ढों का देश बन कर रह जाएगा.

इसे भी पढ़ें-  Corona Alert: सावधान ! चीन के दक्षिण के इलाकों में एक बार फिर से बढ़ रहा है कोरोना संक्रमण 

Latest News

वंशवाद मजबूत हुआ या कमजोर!
भारत में वंशवाद के विरोध की राजनीति की चैंपियन पार्टी भाजपा है। उसके नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों देश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});