पोस्टपेड सेवा बहाल के बावजूद कश्मीर में जीवन प्रभावित - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

पोस्टपेड सेवा बहाल के बावजूद कश्मीर में जीवन प्रभावित

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में 71 दिन बाद सोमवार को भले ही पोस्टपेड मोबाइल सेवा बहाल कर दी गयी हो लेकिन घाटी में आज भी जनजीवन प्रभावित रहा। लोग केन्द्र सरकार के पांच अगस्त को राज्य को दो केन्द्र शासित प्रदेश में विभाजित करने और अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35 को हटाने का विरोध कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :- हिम्मत है तो विपक्ष अनुच्छेद 370 वापस लाकर दिखाए : मोदी

घाटी में एहतियातन पांच अगस्त से इंटरनेट कनेक्शन और प्रीपेड मोबाइल सेवा पर रोक लगा दी गयी थी जहां उत्तरी कश्मीर में बारामूला से जम्मू क्षेत्र में बनिहाल के बीच ट्रेन सेवा अभी तक फिर से शुरू नहीं हुई है।घाटी के किसी भी हिस्से में कहीं भी कर्फ्यू नहीं है जबकि कश्मीर घाटी में पिछले 24 घंटों के दौरान स्थिति शांतिपूर्ण रही। राजस्थान के निवासी ट्रक चालक शरीफ खान की सोमवार शाम को शोपियां में अज्ञाात बंदूकधारियों ने हत्या कर दी। अज्ञात बंदूकधारियों ने फरार होने से पहले पीड़ित के फलों से लदे हुए ट्रक को आग लगा दी।

इसे भी पढ़ें :- धारा 370 पर अफवाह फैला रही कांग्रेस: मोदी

निषेधाज्ञा के तहत हालांकि प्रतिबंध जारी है और पांच अगस्त से कानून-व्यवस्था की समस्या से निपटने के लिए अतिरिक्त केंद्रीय अर्धसैनिक बल (सीपीएमएफ) को तैनात किया गया है।श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक और अन्य व्यावसायिक हबों समेत सिविल लाइंस में सुबह साढ़े छह बजे से साढ़े नौ बजे तीन घंटे व्यावसायिक गतिविधियों देखने को मिली उसके बाद जनजीवन फिर से थम गया। सिविल लाइंस और नये शहर में निजी वाहनों और तिपहिया वाहनों को हालांकि चलते हुए देखा गया। श्रीनगर के विभिन्न स्थानों पर सुबह और शाम को जिला मार्गों पर कई वाहनों को चलते हुए देखा गया जबकि राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों ने भी सड़कों से दूरी बनाये रखी।छात्रों ने भी संस्थानों से दूरी बनाये रखी। सरकार ने 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाओं के अलावा स्कूलों और कॉलेजों को फिर से खोलने की घोषणा की थी।

इसे भी पढ़ें :- मोदी ने महाराष्ट्र में 370 पर मांगा वोट

सरकार ने पांच अगस्त से राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया था और छात्रों को स्कूल आने के लिए मना किया था।उदारवारी हुर्रियत कांफ्रेंस धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारुक जो वर्तमान में नजरबंद हैं, उनके मजूबत गढ़ ऐतिहासिक जामिया मस्जिद को पांच अगस्त से नमाजियों के लिए बंद किया हुआ है। जामिया मस्जिद और उसके बाहरी इलाके में नमाज स्थल पर कानून-व्यवस्था बनाये रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

इसे भी पढ़ें :- प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर को बनाया भारत का अभिन्न अंग: शाह

घाटी और अन्यत्र स्थानों से लगातार बंद की रिपोर्ट मिल रही हैं। उत्तरी कश्मीर में कुपवाडा, बारामूला, बांदीपुरा, पाट्टन, हंदवाडा और सोपोर में दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे और सड़कों से यातायात नदारद रहे। दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, पम्पोर और कुलगाम से हड़ताल की रिपोर्ट मिल रही हैं जहां कानून-व्यवस्था को बनाये रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बलों को लगाया गया है।मध्य कश्मीर के गंदेरबल और बडगाम जिलों से भी बंद की रिपोर्ट मिल रही हैं।

इसे भी पढ़ें :- श्रीनगर में बाजार पर ग्रेनेड हमला, 11 लोग घायल

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *