मायावती ने बुद्ध पूर्णिमा पर दी बधाई - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

मायावती ने बुद्ध पूर्णिमा पर दी बधाई

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने बुद्ध पूर्णिमा की हार्दिक देते हुये कहा कि कोरोना वायरस महामारी के इस संकट के दौर में करोड़ों पीड़ितों के लिए उसी दया-करुणा, दानशीलता व इन्सानियत की आज भी सख्त जरूरत है।

मायावती ने गुरूवार को यहा जारी बधाई संदेश में कहा कि महात्मा गौतम बुद्ध ने सबकुछ त्यागकर अपना जीवन समर्पित किया व महामानवतावादी कहलाए। उन्होंने कहा कि संकट के इस दौर में करोड़ों पीड़ितों के लिए उसी दया-करुणा, दानशीलता व इन्सानियत की आज भी सख्त जरूरत है।

उन्होंने कहा कि महात्मा बुद्ध ने सत्य, अहिंसा, भाईचारा व मानवता की आदर्श ज्योति को पूरी दुनिया में फैलाकर भारत को विश्व में जगदगुरु का सम्मान दिलाया। उन्होने कहा कि उनकी जयन्ती पर जाति-भेद, हिंसा, हिंसक मनोवृति, द्वेष आदि को जीवन से त्यागने की प्रतिज्ञा लेने/ दोहराने का दिन है।

इसी से जीवन में सच्ची सुख-शान्ति व देश की तरक्की निहित है। एशिया के ’’ज्योति पुंज’’ के रूप में माने जाने वाले महात्मा गौतम बुद्ध ने भारतीय इतिहास को सत्यपरक ज्ञान से सुशोभित किया तथा उनके अनुयाईयों में सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य व महान सम्राट अशोक ने ’’बहुजन हिताय व बहुजन सुखाय’’ को अपने संविधान के मूल सूत्र के रूप में स्थापित कर सामाजिक क्रान्ति की मजबूत नींव डाली।

मायावती ने कहा कि गौतम बुद्ध का अशिक्षित, उपेक्षित व शोषित वर्ग के सभी लोगों को अमर उपदेश था ’अप्प दीपो भवः’ अर्थात शिक्षित बनो, खुद ऊपर उठो व अपना प्रकाश स्वयं बनो जिसका वर्तमान में भी बहुत ही ज्यादा महत्त्व है, जिसपर अमल करकेे महान लक्ष्यों की प्राप्ति की जा सकती है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी अपनी अलग पहचान के साथ लगातार प्रयास व संघर्षरत है। गौतम बुद्ध के मानवीय आदर्शों पर चलकर उत्तर प्रदेश में चार बार अपनी सरकार चलाई है। उनके उपदेशों के आधार पर चलकर समतामूलक व्यवस्था समाज में स्थापित करने का भरसक प्रयास किया। इतना ही नहीं बल्कि उनके नाम पर अनेकों संस्थायें व कपिलवस्तु में हवाई पटटी स्थापित करने का काम भी बसपा की सरकार में किया गया, जिस कारण विश्व स्तर पर उत्तर प्रदेश का मान-सम्मान बढ़ा। गौतम बुद्ध के जीवन आदर्शों पर चलकर भारत देश को फिर से जगदगुरु बनाने की जरूरत है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *