ताजा पोस्ट | देश

New CM of Assam : कौन बनेगा मुख्यमंत्री? जानें कौन है रेस में सबसे आगे

Guwahati : BJP का असम में अगला मुख्यमंत्री कौन होगा, इसको लेकर अब तक कुथ भी कहना मुश्किल है. इस सस्पेंस  में कई नाम हैं जिन्हें इस पद का का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. लेकिन अबतक BJP पार्टी की ओर किसी एक नाम पर मुहर नहीं लग सकी है.  इस लेकर सर्बानंद सोनोवाल और हिमंता बिस्व सरमा ने BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से कल मुलाकात की. कई बैठकों के दौर के बाद भी नए सीएम का नाम बाहर नहीं आ सका है. जानकारी के अनुसार  BJP विधायक दल की बैठक आज गुवाहाटी में होने जा रहा है.  उम्मीद की जा रही है कि अगली सरकार से संबंधित सभी सवालों के जवाब इस बैठक के बाद मिल जाएंगे.इस रेस में सबसे पहला नाम हिमंत बिस्व सरमा का बताया जा रहा है. आज बीजेपी विधायक दल की बैठक में सीएम के नाम पर लग सकती है मुहर.

वर्तमान मुख्यमंत्री सोनोवाल और स्वास्थ्य मंत्री सरमा बुलाया था दिल्ली

असम के वर्तमान मुख्यमंत्री सोनोवाल और स्वास्थ्य मंत्री सरमा को BJP केंद्रीय नेतृत्व ने राज्य में नेतृत्व के मुद्दे पर चर्चा के लिए दिल्ली बुलाया था. इस संदर्भ में शनिवार को दोनों नेताओं, नड्डा, शाह और BJP महासचिव (संगठन) बीएल संतोष के बीच चार घंटे से अधिक समय तक तीन दौर की बातचीत हुई. नड्डा के आवास पर हुईं इन बैठकों में पहले दो दौर में BJP के शीर्ष नेतृत्व ने सोनोवाल और सरमा से अलग-अलग मुलाकात की. जबकि तीसरे और अंतिम दौर में शीर्ष नेतृत्व ने असम के दोनों नेताओं को एक साथ बैठाकर बातचीत की.  इन बैठकों में असम में अगली सरकार के गठन और मुख्यमंत्री का मुद्दा ही छाया रहा. बैठक के लिए सोनोवाल और सरमा अलग-अलग नड्डा के आवास पर पहुंचे थे, लेकिन बैठकों के बाद दोनों एक ही कार में वहां से रवाना हुए.

इसे भी पढें- नड्डा, शाह से मिले सोनोवाल और सरमा

पहले नहीं की थी मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी की घोषणा

बता दें  कि सर्बानंद सोनोवाल असम के सोनोवाल-कछारी आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखते हैं और हिमंता बिस्व सरमा असमी ब्राह्मण हैं जो पूर्वोत्तर लोकतांत्रिक गठबंधन के संयोजक हैं. सरमा पूर्व कांग्रेसी हैं जो 2015 में BJP में शामिल हुए थे. BJP ने इस बार चुनावों से पहले मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी की घोषणा नहीं की थी. जबकि 2016 का विधानसभा चुनाव BJP ने सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करके लड़ा था और पार्टी ने पूर्वोत्तर में पहली बार सरकार बनाई थी. इस बार के चुनाव में 126 सदस्यीय विधानसभा में BJP ने 60, उसके गठबंधन सहयोगियों असम गण परिषद ने नौ व यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल ने छह सीटें हासिल की हैं.

इसे भी पढें- Corona Alert: कोरोना को मात देने वालों के लिए जानलेवा बन रहा म्यूकोरमाइकोसिस, महाराष्ट्र में 8 लोगों का मौत, 200 इलाजरत

Latest News

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : कांग्रेसी नेता ने कहा ॐ के उच्चारण से ताकतवर और अल्लाह कहने से कमजोर नहीं होता योग. तो BJP सांसद ने ये दिया मजेदार जवाब
नई दिल्ली | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर देश के साथ ही विदेशों में भी तरह तरह के कार्यक्रमों का आयोजन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश | उत्तर प्रदेश

Mirzapur : रात को पांचों भाई बहन खुशी-खुशी खाकर सोये, सुबह उठे तो हो चुके थे अनाथ

मिर्जापुर | उतर प्रदेश के मिर्जापुर से एक दिल को दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां रहने वाले एक पति ने अपनी ही पत्नी की बेरहमी से कुल्हाड़ी से मारकर हत्या कर दी. इस जघन्य अपराध को अंजाम देने के बाद उसने भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. घटना की जानकारी आसप-पास रहने वाले लोगों ने जैसे ही पुलिस को दी तो पुलिस आकर शवों को अपने कब्जे में ले लिया. इसके साथ ही दोनोें शवों को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. जानकाकी मिली है कि इस दंपती के 5 मासूस बच्चे थे और अब इनको संभालने वाला कोई नहीं बचा. पुलिस ने फिलहाल दोनों बच्चों के चाउल्ड केयर होम भेज दिया है और मामले की जांच में जुट गई है.

पत्नी को मारने के तुरंत बाद लगा ली फांसी

आसपास रहने वाले लोगों से पूछताछ में पुलिस को जो बात पता चली है उसके अनुसार पति पत्नी में सोमवार की रात किसी बात को लेकर विवाद हो गया था. यह विवाद इतना बढ़ गया कि अर्जुन ने गुस्से में अपना आपा खो दिया. इसके बाद घर पर ही रखी कुल्हाड़ी से अपनी पत्नी पर कई वार किए जिससे मौके पर ही पत्नी की मौत हो गई. इस वारदात को अंजाम देने के बाद पति तुरंत घर से बाहर निकला और पेड़ पर रस्सी बांधकर फांसी लगा ली. पुलिस ने घर से खून में लथपथ कुल्हाड़ी बरामद कर ली है. वहीं नितक अर्जुन के कपड़ों में भी खून के निशान देखने को मिले हैं. इसी बात का अंदाजा लगाकर पुलिस का कहना है कि अर्जुन ने पहले अपनी पत्नी को मारा और उसके बाद खुद फांसी लगा ली.

इसे भी पढ़ें – खुले बालों में चीखती-चिल्लाती महिलाएं, अजीब व्यवहार करते पुरुष, यहां के भूत मेले में दूर-दूर से पहुंचते हैं लोग..

बच्चों के रोने की आवाज सुनकर जमा हुए पड़ोसी

इस वारदात के बाद भी बच्चे घर पर सोए रहे और उन्हें इस बात की जानकारी नहीं मिली कि वे अनाथ हो गए हैं. सुबह जब बच्चों ने आंखें खोली तो अपनी मां के शव को देखकर रोना शुरू कर दिया. घर से बाहर निकल कर जब अपने पिता को फांसी के फंदे पर झूलता देखा तो बच्चे बिलगने लगे. बच्चों को रोता देख जब पड़ोसियों नया सारा नजारा देखा तो तुरंत पुलिस को सूचना दे दी. पड़ोसियों का कहना है कि अक्सर पति पत्नी के बीच विवाद होता रहता था लेकिन स्थिति यहां तक पहुंच जाएगी यह किसी ने भी नहीं सोचा था.

इसे भी पढ़ें- इंडियन आइडल12 से सवाई भट्ट हुए बाहर तो फूटा नव्या नवेली का गुस्सा, लोग बोले-शनमुखा को बचाने के लिए हो रहा ड्रामा

Latest News

aaअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : कांग्रेसी नेता ने कहा ॐ के उच्चारण से ताकतवर और अल्लाह कहने से कमजोर नहीं होता योग. तो BJP सांसद ने ये दिया मजेदार जवाब
नई दिल्ली | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर देश के साथ ही विदेशों में भी तरह तरह के कार्यक्रमों का आयोजन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *