nayaindia Aam Aadmi Party MCD VK Saxena garbage दिल्ली में कचरे को लेकर सवाल उठाने पर कार्रवाई के निर्देश
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Aam Aadmi Party MCD VK Saxena garbage दिल्ली में कचरे को लेकर सवाल उठाने पर कार्रवाई के निर्देश

दिल्ली में कचरे को लेकर सवाल उठाने पर कार्रवाई के निर्देश

नई दिल्ली। दिल्ली के उपराज्यपाल (Lieutenant Governor) वी के सक्सेना (VK Saxena) ने शनिवार को दिल्ली नगर निगम (MCD) को लोगों को गुमराह करने वाले ‘तत्वों’ (elements) के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया। उन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) के इन आरोपों के बीच यह कदम उठाया कि एमसीडी शहर में कचरा डालने के लिए नए स्थल बनाने की योजना बना रही है, जबकि वह मौजूदा तीन लैंडफिल साइटों पर कूड़े के ‘पहाड़’ को साफ करने में विफल रही है।

सक्सेना ने कई ट्वीट करके कहा कि एमसीडी ने पिछले चार महीनों में 26.1 लाख मीट्रिक टन पुराने कचरे को साफ किया है और कचरे के टीले की ऊंचाई 10-15 मीटर कम हो गई है। उन्होंने यह भी कहा कि शहर में कचरा डालने के ‘एक भी’ नए स्थल बनाने की योजना नहीं है।

एमसीडी चुनाव इस वर्ष दिसंबर तक होने की उम्मीद है। इसके मद्देनजर ‘आप’ ने दिल्ली में ‘स्वच्छता की कमी’ और भलस्वा, ओखला और गाजीपुर में ‘लैंडफिल साइट’ पर ‘कचरे के पहाड़ों’ को लेकर एमसीडी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर हमला तेज कर दिया है।

‘आप’ प्रमुख एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को गाजीपुर ‘लैंडफिल’ साइट’ का दौरा किया था और दावा किया था कि एमसीडी शहर में 16 और ‘लैंडफिल साइट’ विकसित करने की योजना बना रही है।

सक्सेना ने ट्वीट किया, ‘निहित स्वार्थ वाले कुछ लोगों द्वारा झूठे दावों के विपरीत, शहर में एमसीडी द्वारा कचरा डालने का एक भी नया स्थल बनाने की योजना नहीं बनाई गई है।’ उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘एमसीडी को दिल्ली को गुमराह करने वाले तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।’

एमसीडी ने शुक्रवार को कहा था कि शहर में कचरा डालने के लिए कोई नया स्थल बनाने की योजना नहीं है। उसने यह भी कहा था कि शहर की तीन ‘लैंडफिल साइट’ (कचरा डालने का स्थल) से अब तक 77 लाख मीट्रिक टन पुराने कचरे को संसाधित किया गया है, जिसने वर्षों से छोटे पहाड़ का आकार ग्रहण कर रखा है।

भाजपा 2007 से तीनों नगर निगमों में सत्ता में है। तीनों नगर निगम अब एकीकृत हो गए हैं। 250 एमसीडी वार्ड के लिए दिसंबर के आसपास चुनाव होने की उम्मीद है और दिल्ली राज्य निर्चाचन आयोग ने इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं।

दिल्ली में लगभग 11,000 मीट्रिक टन कचरा उत्पन्न होता है, जिसका एक महत्वपूर्ण हिस्सा गाजीपुर, भलस्वा और ओखला स्थित तीन लैंडफिल साइट में डाला जाता है। वर्तमान में शहर में अपशिष्ट प्रसंस्करण की संचयी क्षमता 8,213 टन प्रतिदिन है। (भाषा)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × three =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मानस के बहाने मंडल राजनीति की वापसी
मानस के बहाने मंडल राजनीति की वापसी