nayaindia Interpol General Assembly terrorism corruption drug trafficking आतंकवाद, भ्रष्टाचार, ड्रग तस्करी मानवता के दुशमनः मोदी
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Interpol General Assembly terrorism corruption drug trafficking आतंकवाद, भ्रष्टाचार, ड्रग तस्करी मानवता के दुशमनः मोदी

आतंकवाद, भ्रष्टाचार, ड्रग तस्करी मानवता के दुशमनः मोदी

File Photo

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने मंगलवार को आतंकवाद (terrorism), भ्रष्टाचार (corruption), मादक पदार्थों की तस्करी(drug trafficking), अवैध शिकार और संगठित अपराध को मानवता के लिए वैश्विक खतरा बताया और कहा कि इन चुनौतियों से निपटने के लिए विश्व के एकजुट होने का समय आ गया है।

राजधानी दिल्ली स्थित प्रगति मैदान में आयोजित 90वीं इंटरपोल महासभा को संबोधित करते हुए मोदी ने यह भी कहा कि आतंकवाद सिर्फ भौतिक रूप से ही नहीं मौजूद है, बल्कि वह अब साइबर खतरों और ऑनलाइन कट्टरता के माध्यम से अपना दायरा बढ़ा रहा है। उन्होंने कहा, एक सुरक्षित दुनिया हमारी साझा जिम्मेदारी है। जब अच्छी ताकतें एक दूसरे का सहयोग करती हैं, तो अपराध की ताकतें काम नहीं कर सकती हैं।

प्रधानमंत्री ने आतंकवाद, भ्रष्टाचार, मादक पदार्थों की तस्करी, अवैध शिकार और संगठित अपराध को मानवता के लिये खतरा बताते हुए कहा कि जब खतरे वैश्विक होते हैं, तो प्रतिक्रिया केवल स्थानीय नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों, ड्रग कार्टेल, अवैध शिकार गिरोहों या संगठित अपराधों के लिए कोई सुरक्षित पनाहगाह नहीं हो सकती है।

इस महासभा में 195 देशों के प्रतिनिधि शिरकत कर रहे हैं। इन प्रतिनिधियों में सदस्य देशों के मंत्री, पुलिस प्रमुख, केंद्रीय ब्यूरो के प्रमुख और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी शामिल हैं।

महासभा की बैठक यहां 18 अक्टूबर से 21 अक्टूबर तक चलेगी। महासभा, इंटरपोल का सर्वोच्च शासी निकाय है और साल में इसकी एक बार बैठक होती है। इस बैठक में इंटरपोल के कामकाज की समीक्षा की जाती है और महत्वपूर्ण फैसले भी लिए जाते हैं। बैठक में वित्तीय अपराधों और भ्रष्टाचार के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की जाएगी।

भारत की स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस बार की इंटरपोल महासभा का आयोजन नई दिल्ली में करने का विशेष मौका दिया गया है। भारत में इंटरपोल महासभा की बैठक 25 वर्षों के अंतराल के बाद हो रही है। पिछली बार भारत में यह महासभा 1997 में हुई थी। भारत की स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस बार की महासभा का आयोजन नई दिल्ली में करने का विशेष मौका दिया गया है। महासभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, इंटरपोल के अध्यक्ष अहमद नासर अल रईसी और उसके महासचिव महासचिव जुर्गन स्टॉक भी मौजूद थे। (भाषा)

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + eleven =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भ्रष्टाचार लोकतंत्र और सामाजिक न्याय का शत्रु: मुर्मू
भ्रष्टाचार लोकतंत्र और सामाजिक न्याय का शत्रु: मुर्मू