nayaindia Shamli Congress Rahul Gandhi Priyanka Gandhi ‘भारत जोड़ो यात्रा’ बिना प्रियंका आगे बढ़ी
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Shamli Congress Rahul Gandhi Priyanka Gandhi ‘भारत जोड़ो यात्रा’ बिना प्रियंका आगे बढ़ी

‘भारत जोड़ो यात्रा’ बिना प्रियंका आगे बढ़ी

शामली। कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ (‘Bharat Jodo Yatra’) शामली (उत्तर प्रदेश) के ऐलम गांव में रात्रि विश्राम के बाद पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की अगुवाई में बृहस्पतिवार सुबह छह बजे फिर शुरू हुई। प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) बृहस्पतिवार को भी यात्रा में शामिल नहीं हो पाईं।

घने कोहरे और ठिठुरन भरी सर्दी के बीच अपनी अगली मंजिल की तरफ रवाना हुई इस यात्रा में जन समूह की व्यापक भागीदारी देखने को मिली। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग राहुल की तस्वीर छपी सफेद टी-शर्ट पहने नजर आए। राहुल एक बार फिर अपनी चर्चित सफेद टी-शर्ट में यात्रा करते दिखे।

हालांकि, पार्टी की उत्तर प्रदेश से जुड़े मामलों की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा बृहस्पतिवार को भी यात्रा में शामिल नहीं हो पाईं। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अंशु अवस्थी ने बताया कि पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी की तबीयत खराब होने के चलते उनकी देखभाल में व्यस्त प्रियंका बुधवार को भी यात्रा में हिस्सा नहीं ले सकी थीं।

अपनी मां को देखने के लिए राहुल भी बुधवार शाम दिल्ली रवाना हो गए थे। वह बृहस्पतिवार सुबह ऐलम गांव लौटे। कांग्रेस द्वारा जारी कार्यक्रम के मुताबिक, ‘भारत जोड़ो यात्रा’ बृहस्पतिवार को सांप्रदायिक लिहाज से बेहद संवेदनशील माने जाने वाले कैराना से भी होकर गुजरेगी। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में कैराना से बहुसंख्यक समुदाय के लोगों का पलायन एक बड़ा मुद्दा बना था।

पार्टी सूत्रों के अनुसार, यात्रा बृहस्पतिवार को ऐलम गांव से शुरू होकर ऊंचागांव पहुंचेगी, जहां जलपान और विश्राम के बाद अपराह्न साढ़े तीन बजे यात्रा फिर आगे बढ़ेगी और कैराना होते हुए हरियाणा की सीमा में दाखिल हो जाएगी।

सूत्रों के मुताबिक, शाम साढ़े छह बजे हरियाणा के पानीपत में कुछ देर ठहरने के बाद यात्रा सनोली खुर्द पहुंचेगी और वहां रात्रि विश्राम लेगी। इसके बाद पंजाब से होते हुए यह एक दिन हिमाचल प्रदेश से गुजरेगी और उसके बाद जम्मू-कश्मीर में प्रवेश करेगी, जहां इसका समापन होगा। (भाषा)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
खबरों को रोकने के कितने जतन?
खबरों को रोकने के कितने जतन?