nayaindia NIA Raid 56 Locations Linked to PFI in Kerala एनआईए ने केरल में पीएफआई से जुड़े 56 ठिकानों पर छापेमारी की
बूढ़ा पहाड़
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| NIA Raid 56 Locations Linked to PFI in Kerala एनआईए ने केरल में पीएफआई से जुड़े 56 ठिकानों पर छापेमारी की

एनआईए ने केरल में पीएफआई से जुड़े 56 ठिकानों पर छापेमारी की

Popular Front of India.

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) केरल में प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उसके सदस्यों से जुड़े 56 से अधिक ठिकानों पर आतंकी साजिश के एक मामले में छापेमारी (Raid) कर रही है। छापेमारी गुरुवार तड़के शुरू हुई और जारी है। एनआईए ने हाल ही में केरल की एक अदालत के समक्ष एक रिपोर्ट प्रस्तुत की थी, जिसमें दावा किया गया था कि प्रतिबंधित पीएफआई के नेता विभिन्न माध्यमों से अलकायदा के संपर्क में थे। एनआईए की यह रिपोर्ट केरल की अदालत को सौंपी गई थी। एनआईए ने यह भी दावा किया है कि पीएफआई के सदस्य एक गुप्त विंग (Secret Wing) चला रहे हैं। सूत्र ने कहा, हाल ही में छापेमारी के दौरान एनआईए ने कुछ उपकरण जब्त किए थे। उन उपकरणों की स्कैनिंग के दौरान एनआईए को पता चला कि पीएफआई के नेता अलकायदा के संपर्क में हैं। उनका एक गुप्त विंग भी है। 

गौरतलब है कि एनआईए ने देशव्यापी छापेमारी के दौरान पीएफआई के पूरे नेटवर्क का भंडाफोड़ किया था। तब पीएफआई पर प्रतिबंध लगा दिया गया था और उसके नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया था। सरकार ने कहा था, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उसके सहयोगियों को देश के संवैधानिक ढांचे की अवहेलना करते हुए आतंकवाद और इसके वित्तपोषण, लक्षित हत्याओं सहित गंभीर अपराधों में शामिल पाया गया है। इसलिए गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने संगठन की नापाक गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) को उसके सहयोगियों रिहैब इंडिया फाउंडेशन (IF), कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया(CFI), अखिल भारतीय इमाम परिषद (AICC), मानवाधिकार संगठन का राष्ट्रीय परिसंघ (NCHRO), राष्ट्रीय महिला मोर्चा, जूनियर मोर्चा, एम्पावर इंडिया फाउंडेशन और रिहैब फाउंडेशन केरल पर पाबंदी लगाई। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × four =

बूढ़ा पहाड़
बूढ़ा पहाड़
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
किसान और गरीब आधिकारिक तौर पर मांग रहे आश्वासन
किसान और गरीब आधिकारिक तौर पर मांग रहे आश्वासन