Nipah Virus in Kerala: 12 साल के बच्चे की मौत, केन्द्र अलर्ट, भेजी गई टीम
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Nipah Virus in Kerala: 12 साल के बच्चे की मौत, केन्द्र अलर्ट, भेजी गई टीम

Kerala में कोरोना के बीच अब ‘Nipah’ वायरस ने मचाया हड़कंप, 12 साल के बच्चे की मौत, केन्द्र अलर्ट, भेजी गई टीम

नई दिल्ली | Nipah Virus in Kerala: केरल में कोरोना संक्रमण के बीच अब एक और गंभीर वायरस ने दस्तक दे दी है। जिसके चलते एक बच्चे की मौत हो गई है और दो लोगों में भी उस वायरस की पुष्टि हुई है। केरल में पहले से ही कोरोना वायरस से त्रस्त है। यहां हर दिन हजारों की संख्या में कोरोना मामले सामने आ रहे हैं और बड़ी संख्या में मौतें हो रही है। इसी बीच केरल में ‘निपाह’ वायरस (छपचीं टपतने) ने भी दस्तक दे दी है। राज्य के कोझीकोड जिले में निपाह वायरस से एक 12 साल के बच्चे की मौत हो गई। जिसके बाद से प्रशासन हड़कंप मचा हुआ है। बच्चे की मौत के बाद प्रशासन तुरंत सक्रिय हुआ और बच्चे के संपर्क में आने वाले लोगों की तुरंत जांच की गई।

ये भ पढ़ें :- PM Modi जाएंगे America, सितंबर के अंत में हो सकती हैं जो बाइडेन और पीएम मोदी की पहली मुलाकात!

20 लोग हाई रिस्क कैटेगरी में
राज्य के स्वास्थय मंत्री वीना जॉर्ज ने इस मामले के संबंध में बताया कि कोझीकोड में बच्चे के अलावा 2 अन्य लोगों में भी निपाह वायरस का संक्रमण पाया गया है। बच्चे का रूट मैप जारी किया जाएगा जिससे लोगों को यह पता चल सके कि वह कहां कहां गया था और किन किन लोगों के संपर्क में आया था। अभी तक के प्रयासों में 188 प्राथमिक संपर्कों की पहचान की गई है। जिनमें से 20 व्यक्ति हाई रिस्क कैटेगरी में हैं, जिनकों मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया जाएगा।

Nipah Virus : आखिर है क्या ‘निपाह’ वायरस, क्या हैं इसके लक्षण
निपाह वायरस एक ऐसी बीमारी है जो जानवरों से इंसानों में फैलती है। ये वायरस संक्रमित सूअरों या फल खाने वाले चमगादड़ों से फैलता है। उनके लार, पेशाब या मल के ज़रिए इसका फैलाव होता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, बांग्लादेश और भारत में ये वायरस आमतौर पर फलों या फलों के उत्पादों (जैसे कच्चे खजूर का रस) का सेवन करने से फैलता है। अगर इन फलों पर चमगादड़ों के यूरिन या लार पाए होते है तो इससे इस वायरस का फैलाव होता है।

निपाह वायरस से संक्रमित लोगों में शुरू में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, चक्कर आना, उल्टी और गले में खराश जैसे लक्षण होते हैं। इसके ज्यादा बढ़ने पर असामान्य निमोनिया और गंभीर सांस की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता हैं। इस गंभीर वायरस की चपेट में आया मरीज 24 से 48 घंटों के भीतर कोमा में चले जाता हैं। ये वायरस 4 से 14 दिनों तक एक्टिव रहता है। डब्ल्यूएचओ माने तो इस वायरस से लड़ने के लिए अभी दुनिया में कोई दवा या टीके नहीं हैं।

ये भी पढ़ें :- 5 मिनट का योग अंतराल लें, आयुष मंत्रालय का वाई-ब्रेक ऐप डाउनलोड करें, सरकार ने कर्मचारियों से उपयोग बढ़ाने की अपील की

केन्द्र सरकार अलर्ट, केरल भेजी गई टीम
केंद्र सरकार भी निपाह वायरस को लेकर अलर्ट मोड पर आ गई है और एक टीम केरल के लिए भेजी गई है। यह टीम केरल के अधिकारियों को तकनीकी सहायता में मदद करेगी। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने राज्य को सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों की भी सलाह दी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow