ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया| Nso pegasus spyware software जासूसी मामला उठेगा संसद में

जासूसी मामला उठेगा संसद में

Parliament adjourned for the second day :

Nso pegasus spyware software नई दिल्ली। संसद के मॉनसून सत्र का दूसरा हफ्ता सोमवार से शुरू होगा और पहले दिन विपक्षी पार्टियां इजराइली सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए की हुई कथित जासूसी का मामला उठाएगा। पिछले हफ्ते के चार दिन संसद की बैठक हुई थी और चारों दिन जासूसी का मामला ही छाया रहा था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने रविवार को साफ कर दिया कि जासूसी का मामला खत्म नहीं हुआ है। विपक्ष के हंगामे की वजह से चारों दिन दोनों सदनों की कार्यवाही नहीं चल सकी थी। विपक्षी पार्टियां महंगाई और कृषि कानूनों का मुद्दा भी उठाएंगी।

Read also भारत-पाक सुरक्षा बलों के बीच वार्ता

पेगासस जासूसी के मामले में कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि सरकार को संयुक्त संसदीय समिति बनानी चाहिए या सुप्रीम कोर्ट से जांच के लिए मौजूदा जज नियुक्त करने का अनुरोध करना चाहिए। चिदंबरम ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पेगासस मुद्दे पर संसद में बयान देना चाहिए, उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि क्या जासूसी की गई थी? उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय समिति द्वारा जांच की तुलना में संयुक्त संसदीय समिति की जांच अधिक प्रभावी हो सकती है।

Read more मन की बात में देश की बात, कोरोना से सावधान रहने की नसीहत

इस बीच शिव सेना के सांसद संजय राउत ने रविवार को पूछा कि पेगासस के जरिए नेताओं और पत्रकारों की कथित जासूसी का खर्च किसने किया? उन्होंने इसकी तुलना हिरोशिमा परमाणु बम हमले से करते हुए कहा कि जापान के इस शहर पर हमले से लोगों की मौतें हुईं तो वहीं इजराइली सॉफ़्टवेयर की जासूसी से स्वतंत्रता की मौत हुई। शि वसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के अपने साप्ताहिक स्तंभ में राउत ने लिखा कि नेता, उद्योगपति और सामाजिक कार्यकर्ताओं को यह डर है कि उनकी जासूसी की जा रही है और यहां तक कि न्यायपालिका और मीडिया भी इसी दबाव में हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग

देश

विदेश

खेल की दुनिया

फिल्मी दुनिया

लाइफ स्टाइल