farmers' movement one year किसान आंदोलन का साल पूरा!
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| farmers' movement one year किसान आंदोलन का साल पूरा!

किसान आंदोलन का साल पूरा!

farmers' movement one year

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन का एक साल पूरा हो गया है। किसानों ने 26 नवंबर 2020 को दिल्ली की सीमा पर पहुंच कर आंदोलन शुरू किया था। आंदोलन के एक साल पूरे होने से एक हफ्ते पहले 19 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों विवादित कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया लेकिन किसान अब भी डटे हुए हैं और आंदोलन के एक साल पूरे होने के मौके पर शुक्रवार को दिल्ली की तीन सीमाओं पर बड़ा कार्यक्रम करने की योजना बनाई है। farmers’ movement one year

Read also खुर्शीद की किताब पर पाबंदी से इनकार

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने केंद्र सरकार से कहा है कि वे संसद में कानून बना कर तीनों कानूनों को वापस लिए जाने का इंतजार कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी की गारंटी का कानून बनाने की मांग की है। साथ ही आंदोलन के दौरान मारे गए करीब साढ़े सात सौ किसानों को मुआवजा देने और किसानों के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग भी की है। किसानों ने यह भी कहा है कि सरकार बिजली संशोधन बिल वापस ले।

Rakesh Tikait tractor march

बहरहाल, किसान आंदोलन का साल पूरा होने के मौके पर किसान इस बात का जश्न मनाएंगे कि प्रधानमंत्री ने कानून वापस लेने की घोषणा कर दी है और केंद्रीय कैबिनेट ने भी इसकी मंजूरी दे दी है। जीत का आंशिक जश्न मनाने और बाकी मांगों के लिए केंद्र पर दबाव बनाने के मकसद से कई राज्यों से किसान दिल्ली की सीमाओं के लिए निकल पड़े हैं। कई राज्यों के किसान दिल्ली की तीन सीमाओं- सिंघु, टिकरी और गाजीपुर पहुंच गए हैं। किसान 28 नवंबर से शुरू हो रहे संसद सत्र के दिन से संसद तक ट्रैक्टर मार्च करने की तैयारी भी कर रहे हैं।

Read also जनसंख्या दर में बड़ी गिरावट

इस बीच ट्रैक्टर टू ट्विटर नामक ट्विटर हैंडल से एक वीडियो भी ट्विट किया गया है, जिसमें लिखा गया है कि जीत का जश्न मनाने और एमएसपी की कानूनी गारंटी लिए अभियान तेज करने के लिए हजारों किसान पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और यूपी के विभिन्न हिस्सों से दिल्ली की सीमा पर पहुंच रहे हैं। इससे पहले किसान नेता राकेश टिकैत ने किसान संगठनों से भी अपील की थी कि 26 नवंबर को किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने के मौके पर सभी धरना प्रदर्शन स्थलों पर किसान भारी संख्या में पहुंचे और अपनी उपस्थिति दर्ज कराएं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Yahoo Search Engine में 2021 में सबसे ज्यादा सर्च किए गए पीएम मोदी, ममता दीदी यहां भी ज्यादा पीछे नहीं…
Yahoo Search Engine में 2021 में सबसे ज्यादा सर्च किए गए पीएम मोदी, ममता दीदी यहां भी ज्यादा पीछे नहीं…