ओवैसी देशव्यापी सीएए विरोधी प्रदर्शन के नेता: भाजपा

नई दिल्ली। बेंगलुरू में असदुद्दीन ओवैसी की नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) विरोधी रैली में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाए जाने व उनके पार्टी सदस्य वारिस पठान द्वारा सांप्रदायिक बयान दिए जाने के एक दिन बाद भाजपा ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख को नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों का ‘नेता’ बताया। भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया, आज हम घृणा की राजनीति का एक उदाहरण दे रहे हैं, जो कुछ लोग पूरे देश में सीएए के विरोध के तौर पर कर रहे हैं। देश में हो रहे इन विरोधों का यदि कोई तथाकथित नेता है, तो वह असदुद्दीन ओवैसी हैं।

उन्होंने कहा कि ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे गुरुवार को लगाए गए, जिस मंच पर ओवैसी मौजूद थे। पात्रा ने आरोप लगाया, कभी-कभी जो नेपथ्य में सिखाया जाता तो वह मंच पर सामने आ जाता है। जब वे मंच के पीछे पाकिस्तान को समर्थन देने की बात करते हैं और मंच पर संविधान व तिरंगे की मर्यादा बनाए रखने का नाटक करते हैं तो अक्सर सच्चाई मुंह से बाहर आ जाती है। गुरुवार को एक युवती को पाकिस्तान समर्थक नारे लगाते देखा गया, जिसके बाद एआईएमआईएम नेता ने उसे रोकने की कोशिश की। यह घटना बेंगलुरु में एक सीएए विरोधी कार्यक्रम में हुई। इसके बाद पात्रा ने एआईएमआईएम सदस्य वारिस पठान पर निशाना साधा।

यह खबर भी पढ़ें: ओवैसी जैसे कट्टरपंथी देशद्रोही सेना बना रहे : गिरिराज

पठान ने अपने सांप्रदायिक बयानबाजी से गुरुवार को हंगामा खड़ा कर दिया। भाजपा के नेता ने कहा, ओवैसी के वरिष्ठ पार्टी नेता वारिस पठान कहते है कि वे आजादी छीन लेंगे। मैं इन तथाकथित उदारवादियों से पूछना चाहता हूं, कौन सी आजादी और किससे? पात्रा ने सिविल सोसाइटी के चुप रहने को लेकर निशाना साधा। पात्रा ने आरोप लगाया, ओवैसी की पार्टी ने कहा है कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी होंगे। अगर एक भाजपा नेता ने ऐसा बयान दिया होता, तो आज सभी तथाकथित उदारवादी पूरे देश में हंगामा खड़ा कर रहे होते। लेकिन आज एक भी व्यक्ति सामने नहीं आ रहा है, एक भी सवाल नहीं पूछा जा रहा है।

इससे पहले बेंगलुरु में गुरुवार को पठान को यह कथित तौर पर कहते सुना जा सकता है, हमें एक साथ चलना होगा। हमें आजादी (आजादी) लेनी होगी, जो चीजें हमें मांगने से नहीं मिलती हैं, उसे हमें जबरन लेना होगा, याद रखें। पठान को कहते सुना जा रहा है, अब समय आ गया है, हमसे कहा गया है कि हमने अपनी माताओं व बहनों को आगे कर दिया है.. अभी तो केवल शेरनियां बाहर निकली हैं तो आपके पसीने आ रहे हैं। सोचो क्या होगा जब हम साथ आएंगे तो। हम 15 करोड़ हैं लेकिन 100 करोड़ के ऊपर भारी हैं। यह याद रख लेना। शुक्रवार को पात्रा ने सांप्रदायिकता पर जोरदार पलटवार किया। देश भर में सीएए विरोध प्रदर्शनों पर हमला करते हुए पात्रा ने आरोप लगाया, इन सभी लोगों के दिलों में वारिस पठान है, यह अब साबित हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares