ताजा पोस्ट

Oxygen Production : अब उर्वरक कंपनियों के द्वारा प्रतिदिन 50 टन Oxygen उपलब्ध कराएंगे

New Delhi । देश के उर्वरक संयंत्र कोविड रोगियों के उपचार के लिए प्रतिदिन 50 टन चिकित्सा Oxygen उपलब्ध कराएंगे। रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandavia) ने सार्वजनिक क्षेत्र, निजी क्षेत्र और सहकारी क्षेत्र की उर्वरक कंपनियों के साथ, उनके संयंत्रों में Oxygen के उत्पादन की संभावना का पता लगाने के लिए बुधवार को एक बैठक की अध्यक्षता की।

मंडाविया ने उर्वरक कंपनियों से इस महामारी के समय में Oxygen उत्पादन की अपनी मौजूदा क्षमता को पुन: प्राप्त कर और अस्पतालों को मेडिकल ग्रेड Oxygen की आपूर्ति बढ़ाकर समाज की मदद करने का आह्वान किया। उर्वरक कंपनियों ने राज्य मंत्री की पहल का स्वागत किया और देश में Kovid-19 की स्थिति से लड़ने के लिए सरकार के प्रयासों में शामिल होने के लिए तत्परता से दिलचस्पी दिखाई।

 

इसे भी पढ़ें :-Oxygen Crisis: राजस्थान को ऑक्सीजन देगा  झारखंड, सीएम गहलोत ने पत्र लिखकर मांगी थी मदद

IFFCO गुजरात की अपनी कलोल इकाई में 200 क्यूबिक मीटर प्रति घंटे की क्षमता वाला एक Oxygen संयंत्र लगा रहा है और उनकी कुल क्षमता 33,000 क्यूबिक मीटर प्रति दिन होगी। GSFC ने अपने संयंत्रों में छोटे संशोधन किए और तरल Oxygen की आपूर्ति शुरू कर दी है । GNFC ने वायु पृथक्करण इकाई शुरू करने के बाद चिकित्सा प्रयोजन के लिए तरल Oxygen की आपूर्ति भी शुरू कर दी है।

GSFS और GNFC ने अपनी Oxygen उत्पादन क्षमता बढ़ाने की प्रक्रिया पहले ही शुरू कर दी है। अन्य उर्वरक कंपनियां CSR फंडिंग के माध्यम से देश के चुनिंदा स्थानों पर अस्पतालों में चिकित्सा संयंत्र स्थापित करेंगी। कुल मिलाकर यह उम्मीद की जाती है कि चिकित्सा Oxygen उर्वरक संयंत्रों द्वारा कोविड रोगियों के लिए प्रतिदिन लगभग 50 टन मेडिकल Oxygen उपलब्ध कराया जा सकता है। ये कदम आने वाले दिनों में देश के अस्पतालों में मेडिकल ग्रेड Oxygen की आपूर्ति को बढ़ाएंगे।

इसे भी पढ़ें :-Kovid पॉजिटिव महिला ने Kovid-free स्वस्थ जुड़वा बच्चों को दिया जन्म

Latest News

राजनीति में उफान, लाचार मोदी!
गपशप | NI Desk - June 19,2021
वक्त बदल रहा है। बंगाल में भाजपाई तृणमूल कांग्रेस में जाते हुए हैं तो त्रिपुरा की भाजपा सरकार पर खतरे के बादल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *