Parliament winter session LokSabha लोकसभा में खत्म हुआ गतिरोध!
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Parliament winter session LokSabha लोकसभा में खत्म हुआ गतिरोध!

लोकसभा में खत्म हुआ गतिरोध!

Parliament winter session LokSabha

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र की हंगामेदार शुरुआत के बाद ऐसा लग रहा है कि लोकसभा में सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच गतिरोध दूर हो गया है। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के प्रयास से मंगलवार को दोपहर बाद सभी पार्टियों की बैठक हुई, जिसमें सदन को सुचारू रूप से चलाने की सहमति बनी। दावा किया जा रहा है कि विपक्ष के सहयोग से अब सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से चलेगी। बुधवार को कोरोना के नए वैरिएंट और वायरस से निपटने की रणनीति पर सदन में चर्चा होगी।

असल में मंगलवार को सदन में विपक्ष के विरोध की वजह से कार्यवाही नहीं चल रही थी और सदन बार बार स्थगित हो रहा था। भोजनावकाश के बाद जब सदन तीन बजे के लिए स्थगित हुआ तो स्पीकर ने सभी पार्टियों की बैठक बुलाई। इसमें तय किया गया कि सदन तीन बजे से सुचारू रूप से चलेगा। यह भी तय हुआ कि विपक्ष भी सदन के कार्यवाही में हिस्सा लेगा। स्पीकर की बुलाई बैठक में लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी के अलावा टीआर बालू, सौगत रॉय, कल्याण बनर्जी, सुप्रिया सुले शामिल हुए।

Read also जीडीपी 8.4 फीसदी की दर से बढ़ी

right to privacy Bill

इससे पहले कृषि कानूनों की वापसी का बिल बिना चर्चा के पास करवाने और राज्यसभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर सदन में गतिरोध दिख रहा था। विपक्षी सांसदों का कहना है कि निलंबन पूरी तरह से नियमों के खिलाफ है। उनका कहना है कि सदस्य को सत्र के बाकी बचे समय के लिए निलंबित किया जाता है और मॉनसून सत्र 11 अगस्त को ही समाप्त हो गया था ऐसे में इस सत्र में निलंबन गलत है। दूसरी ओर सरकार का कहना है कि जिन सांसदों के 10 अगस्त के आचरण की शिकायत मिली थी उन पर कार्रवाई नहीं हुई है। लेकिन जिन लोगों की शिकायत सत्र के आखिरी दिन 11 अगस्त को मिली थी उन पर इस सत्र के पहले दिन कार्रवाई की गई।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस ने वैश्विक स्तर पर सुरक्षा के मामले में सबसे खराब रेटिंग दी – अध्ययन
पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस ने वैश्विक स्तर पर सुरक्षा के मामले में सबसे खराब रेटिंग दी – अध्ययन