nayaindia Congress blames the Center पेरारिवलन की रिहाई
ताजा पोस्ट | विदेश| नया इंडिया| Congress blames the Center पेरारिवलन की रिहाई

पेरारिवलन की रिहाई, कांग्रेस ने केंद्र को जिम्मेदार बताया

Election Result Congress Reaction :
Image Source : Social Media

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में दोषी एजी पेरारिवलन को जेल से रिहा किए जाने के मामले में कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा है कि केंद्र सरकार की वजह से पेरारिवलन की रिहाई हुई है। कांग्रेस पार्टी ने पेरारिवलन को रिहा करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश को दुर्भाग्यपूर्’ करार देते हुए बुधवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने ऐसे हालात पैदा किए कि अदालत को यह फैसला देना पड़ा।

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि आतंकवाद को लेकर सरकार का यह रवैया निंदनीय है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा- उच्चतम न्यायालय का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे करोड़ों भारतीय नागरिकों की भावना आहत हुई है, क्योंकि न्यायालय ने राजीव गांधी जी के एक हत्यारे को रिहा कर दिया है। तथ्य बड़े स्पष्ट हैं और जिम्मेदार मोदी सरकार है। उन्होंने कहा- नौ सितंबर, 2018 को तमिलनाडु की तत्कालीन अन्ना डीएमके और भाजपा सरकार ने उस समय के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को सिफारिश भेजी कि राजीव गांधी जी की हत्या के सभी सात दोषियों को रिहा कर दिया जाए। राज्यपाल ने कोई फैसला नहीं किया। उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए मामला राष्ट्रपति को भेज दिया। राष्ट्रपति ने भी ने कोई फैसला नहीं किया।

सुरजेवाला ने दावा किया कि इस देरी और भाजपा सरकार द्वारा नियुक्त राज्यपाल द्वारा फैसला नहीं किए जाने के कारण एक हत्यारे को रिहा कर दिया। अब सभी दोषी रिहा हो जाएंगे। उन्होंने सवाल किया- मोदी जी, क्या आपका यही राष्ट्रवाद है? क्या आपका तौर तरीका है कि कोई निर्णय ही नहीं लो और उस आधार पर अदालत राजीव गांधी जी के हत्यारे को रिहा कर दे? सुरजेवाला ने कहा- जिस आधार पर निर्णय हुआ है उस आधार पर तो हजारों तमिल कैदियों को छोड़ दिया जाना चाहिए और देश में आजीवन कारावास के लाखों कैदी हैं, उनको भी छोड़ दिया जाना चाहिए।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

ten − 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
ओवैसी के चार विधायक राजद में शामिल
ओवैसी के चार विधायक राजद में शामिल