PM Modi ने रोने के मामले में जवाहर लाल नेहरू को भी पीछे छोड़ा, जानें कब मुश्किल परिस्थितियों में नेहरू की भर आई थी आंखें - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजनीति| नया इंडिया|

PM Modi ने रोने के मामले में जवाहर लाल नेहरू को भी पीछे छोड़ा, जानें कब मुश्किल परिस्थितियों में नेहरू की भर आई थी आंखें

नई दिल्ली |  भारतीय राजनीति में भावनाओं का हमेशा से ही एक अलग सा क्रेज रहा है. ये कोई नयी बात नहीं है जब किसी प्रधानमंत्री ने रोकर लोगों से अपनी संवेदनाएं जाहिर की है. इसके पहले भी पीएम मोदी नोटबंदी के समय भावुक हो गये थे. उस समय देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी अचानक भावुक हो गये थे. पीएम का रोते हुआ दिया गया  बयान- कि हमारा क्या है हम तो झोला लेकर निकल जाएंगे काफी लोकप्रिय हुआ था. इसके बाद तो जैसे देश में लोगों ने नोटबंदी को ऐसे स्वीकर किया कि जैसे ऐसा कर हम देश के लिए अपना कर्तव्य विभा रहे हैं. ये और बात है कि आज नोटबंदी को एक विवादित फैसले के रूप में ही देखा जाता है.  आपको बता दें कि रोकर देश के लोगों को भावुक करने का ये ट्रेंड पीएम मोदी का लाया हुआ नहीं है. इसके पहले भी कई बार राजनेताओं ने देश की जनता को भावुक कर उनके दिल तक पहुंचने का रास्ता खोज निकाला है. अब इस बार पीएम मोदी को इस भावुकता के बदले कितना सम्मान और प्यार मिलता है ये तो आने वाला संय ही बताएगा. लेकिन इतना तो तय है कि भारतीय राजनीति में पीएम मोदी ने एक बार फिर से ये साबित कर दिया है कि भारत में आंसुओं की कीमत बहुत है…..

 प्रधानमंत्री नेहरू को भी आ गया था रोना

1962 की जंग चीन से हारने के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की लोकप्रियता पर ग्रहण लग गया था. प्रधानमंत्री नेहरु को शर्मनाक पराजय के कारण देशभर में दिखी आलोचनाएं झेलनी पड़ रही थी. उसी समय लाल किले में एक कार्यक्रम के दौरान लता मंगेशकर के द्वारा गाए गए प्रसिद्ध गीत  – ऐ मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी…. के गाने के बाद जवाहरलाल नेहरू की आंखें नम हो गई. उस समय की मीडिया ने भी जवाहरलाल नेहरू के रो पड़ने की खबर को  प्रमुखता से जगह दी थी जितनी आज प्रधानमंत्री मोदी के रोने पर दी जाती है. इसके बाद जवाहरलाल नेहरू को बहुत बड़ा फायदा हुआ. अचानक से आलोचना झेल रहे प्रधानमंत्री एक बार फिर जनता के बीच लोकप्रिय हो गए. हो सकता है उस समय जवाहरलाल नेहरू ने भी या नहीं सोचा होगा कि उनकी आंखें भर जाने का उन्हें इतना बड़ा फायदा हो सकता है. लेकिन यह कहना गलत नहीं होगा कि लोगों को भावुक करना और आंसुओं का महत्व देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने ही सिखाया था.

इसे भी पढ़ें – मास्टर ब्लास्टर Sachin Tendulkar का रिकाॅर्ड तोड़ इतिहास रचने के करीब है इंग्लैंड का ये महान खिलाड़ी

अब जमकर होता है भावुकता का  प्रयोग

ये तो आप समझ ही गए होंगे कि भारत की राजनीति में भावनाओं का कितना महत्व है. लेकिन ऐसा नहीं है कि सिर्फ प्रधानमंत्री कद के नेता लोगों को भावुक करने में सफल हो पाते हैं. जमाना बदल गया लेकिन आज भी भारत में चुनाव मुद्दों पर नहीं बल्कि भावनाओं पर जीते जाते हैं. इसका सबसे ताजा उदाहरण बंगाल चुनाव 2021 में देखने को मिला. बंगाल चुनाव में भाजपा को कड़ी टक्कर दे रही ममता बनर्जी ने कभी अपनी आंखों में आंसू तो नहीं भरे , लेकिन व्हील चेयर पर प्रचार कर भावनाओं का एक ऐसा जाल बिछाया जिसमें भाजपा फंस कर रह गई. देश की राजनीति में ऐसे कई उदाहरण देखने को मिलते हैं जिससे यह स्पष्ट होता है कि भारत में भावनाओं के दम पर कैसे जनता के वोटों को प्रभावित किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें-  CHINA NEW STRAIN: चीन का नया हथियार, जियांगसू प्रांत में एक शख्स में मिला बर्ड फ्लू का H10N3 स्ट्रेन

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});