प्रदूषण: बीजेपी ने 400 करोड़ के 'खेल' का लगाया आरोप - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

प्रदूषण: बीजेपी ने 400 करोड़ के ‘खेल’ का लगाया आरोप

नई दिल्ली। दिल्ली में प्रदूषण के मसले पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिल्ली सरकार को फटकार लगाने के बाद एक बार फिर भाजपा ने आम आदमी पार्टी पर निशाना साधा है। पार्टी ने कहा है कि ‘केजरीवाल सरकार ने चार सौ करोड़ रुपये तो विज्ञापनों के जरिए चेहरा चमकाने में खर्च कर दिया।’ इतनी धनराशि इलेक्ट्रिक बस खरीदने या स्मोक टावर लगाने में खर्च होती तो आज ये दिन न देखने पड़ते।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने दावा किया कि भाजपा की सरकार बनने पर साढ़े तीन साल में दिल्ली को शुद्ध हवा और साफ पानी मिलेगा। हर घर में नल से साफ पानी की आपूर्ति होगी। मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पत्रकारों से कहा, दिल्ली भाजपा इकाई 400 करोड़ रुपये इनकी पार्टी से वसूल करने की मांग करती है, जो इन्होंने सिर्फ अपने चेहरे चमकाने में खर्च कर दिए।

यह भी पढ़े:- संसद में फिर हुई प्रदूषण पर चर्चा

अगर यह 400 करोड़ रुपए इलेक्ट्रिक बस खरीदने में या स्मोक टावर लगाने में खर्च किए गए होते तो दिल्ली को आज यह दिन नहीं देखना पड़ता। मनोज तिवारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को दिल्ली सरकार से पूछना पड़ा कि आपके लिए एक इनसान की जिंदगी की कीमत क्या है। दिल्ली सरकार से यहां तक कह दिया कि ऐसे दिल्ली को तड़पाने से अच्छा है, एक बार में मार दो। आम आदमी पार्टी केवल लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ करने की राजनीति कर रही है।

तिवारी ने कहा, “आम आदमी पार्टी बदलाव का वादा कर सत्ता में आई थी, बदलाव इन्होंने अपने प्रचार के बजट में किया। मार्च 2019 तक 311 करोड़ का प्रचार खर्च था, जो कि अब तक 400 करोड़ हो गया होगा। हमें पता चला है दिल्ली को प्रदूषण में झोंकने के बाद इन्होंने अपने घर और ऑफिस में 2600 एयर प्यूरीफायर लगवाए हैं।”

गौरतलब है कि प्रदूषण के मसले पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने राज्य और केंद्र सरकार के बीच मतभेदों को जहां अविलंब दूर करने को कहा, वहीं दिल्ली सरकार से कहा कि जिंदगी नर्क बन गई है। आपको कुर्सी पर रहने का हक नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि लोग हमारे देश पर हंस रहे हैं कि हम स्टबल बर्निग को नियंत्रित नहीं कर सकते। आरोप-प्रत्यारोप दिल्ली की जनता की सेवा नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *