Punjab political crisis Channi सिद्धू दिल्ली में उधर कैप्टेन से मिले चन्नी
ताजा पोस्ट | देश | पंजाब| नया इंडिया| Punjab political crisis Channi सिद्धू दिल्ली में उधर कैप्टेन से मिले चन्नी

सिद्धू दिल्ली में, उधर कैप्टेन से मिले चन्नी

नई दिल्ली/चंडीगढ़। पंजाब में कांग्रेस पार्टी के अंदर नया समीकरण बन रहा है। पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू दिल्ली पहुंचे तो राज्य के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह से मुलाकात की। मुख्यमंत्री बनने के बाद चन्नी गुरुवार को पहली बार अमरिंदर सिंह से मिलने पहुंचे। चन्नी के साथ उनकी पत्नी और बेटा-बहू भी मौजूद थे। कैप्टन अमरिंदर को हटाकर ही चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया गया है। Punjab political crisis Channi

कैप्टन अमरिंदर सिंह और मुख्यमंत्री चन्नी की मुलाकात कैप्टन के सिसवां फार्म हाउस में हुई। फिलहाल इस मीटिंग का एजेंडा सामने नहीं आया है, लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि चन्नी भी प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को सबक सिखाना चाहते हैं। पिछले दिनों सिद्धू ने कहा था कि चन्नी अगले चुनाव में पार्टी का नुकसान करेंगे। दूसरी ओर कैप्टेन ने सिद्धू का नुकसान करने की ठानी हुई है। दोनों नेताओं की मुलाकात को इस नजरिए से देखा जा रहा है।

Read also महंगाई के बीच त्योहारी सीजन में खाने का तेल हुआ सस्ता, आम जनता को राहत के लिए सरकार ने उठाया कदम

Sidhu Priyanka BJP Congress :

Punjab political crisis Channi

Read also दिल्ली दंगा: नौ आरोपियों के खिलाफ आरोप तय

इस बीच दिल्ली में सिद्धू ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की। वे गुरुवार को दिल्ली पहुंचे और प्रदेश के प्रभारी हरीश रावत व संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की। देर शाम तीनों नेताओं की बैठक खत्म हुई और माना जा रहा है कि शुक्रवार को सिद्धू के भविष्य को लेकर फैसला हो सकता है। गौरतलब है कि सिद्धू ने प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया है, जिसे अभी तक पार्टी आलाकमान ने स्वीकार नहीं किया है। सिद्धू ने इस्तीफा देने के साथ ही यह भी कहा था कि वे राहुल और प्रियंका के साथ बने रहेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
धान खरीद पर सरकार ने बदला फैसला, तो कांग्रेस बोली- मोदी सरकार को ऐसे ही रद्द करने पड़ेंगे तीनों कृषि कानून
धान खरीद पर सरकार ने बदला फैसला, तो कांग्रेस बोली- मोदी सरकार को ऐसे ही रद्द करने पड़ेंगे तीनों कृषि कानून