Rajasthan Politics: चलो बुलावा आया है जोशी जी ने बुलाया है.... इस्तीफा भेजने के बाद हेमाराम को स्पीकर ने बुलवाया - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

Rajasthan Politics: चलो बुलावा आया है जोशी जी ने बुलाया है…. इस्तीफा भेजने के बाद हेमाराम को स्पीकर ने बुलवाया

Jaipur: राजस्थान में कांग्रेस के लिए स्थितियां संभलने का नाम नहीं ले रही है. हेमाराम के इस्तीफे के बाद से कांग्रेस के अंदर लगातार अंतरयुद्ध जैसी स्थिति बनी हुई है. हालांकि इस मामले में अभी तक राजस्थान कांग्रेस के किसी भी कद्दावर नेता ने खुलकर मीडिया में कुछ नहीं कहा है. लेकिन जानकारों की माने तो अंदर ही अंदर काफी मतभेद चल रहा है. इस मतभेद पर अब विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने भी जैसे घी डालने का काम किया है. जानकारी के अनुसार स्पीकर सीपी जोशी ने राजस्थान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हेमाराम चौधरी को 6 दिन बाद व्यक्तिगत रूप से मिलने का बुलावा भेजा है. इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार सीपी जोशी हेमाराम के इस्तीफे की वजह जानने का प्रयास करेंगे. इसके साथ ही स्पीकर मिलने के बाद ही इस्तीफे पर अंतिम निर्णय लेंगे. बता दें कि हेमाराम चौधरी सचिन पायलट समर्थक विधायकों में गिने जाते हैं इसलिए उनके इस्तीफे के बाद से एक बार फिर से गहलोत-पायलट का विवाद चर्चाओं में हैं.

स्पीकर के विवेक पर निर्भर है डाक द्वारा भेजे गए इस्तीफे को स्वीकारना

इस्तीफे के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार हेमाराम ने अपना इस्तीफा अध्यक्ष को डाक के जरिए भेजा है. नियमों विधानसभा में डाक या ईमेल के जरिए इस्तीफे को स्वीकार करना या ना करना पूरी तरह से अध्यक्ष के विवेक और इच्छा पर निर्भर करता है. हालांकि अगर कोई अध्यक्ष से व्यक्तिगत रूप से मिलकर त्यागपत्र देता है तो उस इस्तीफे को अध्यक्ष को तुरंत स्वीकार करना होता है लेकिन डाक या ईमेल के द्वारा भेजे गए इस्तीफे पर उसकी पुष्टि करने का अधिकार अध्यक्ष को होता है. हालांकि इस्तीफे की जांच के अधिनियम के लिए लोकसभा स्पीकर बात ही नहीं है लेकिन वह फिर भी चाहे तो व्यक्तिगत रूप से मिलकर इस्तीफा की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और उसके बाद ही इस्तीफा मंजूर कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- जो बाइडन की सरकार भी ट्रंप की तरह पाकिस्तान को नहीं डालेगी घास…

राजस्थान कांग्रेस की कार्यप्रणाली से नाखुश थे हेमराज

राजस्थान कांग्रेस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए हेमाराम चौधरी ने अपना इस्तीफा दिया है. उन्होंने इस्तीफा देने के बाद यह कहा कि वे राज्य सरकार की कार्य करने के तरीके से खुश नहीं है उनके क्षेत्र में ना तो विकास कार्यों पर ध्यान दिया जा रहा है और ना ही क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की ही बात सुनी जा रही है. बता दें कि हेमाराम चौधरी के इस्तीफा देने के बाद सचिन पायलट का भी एक बयान जारी हुआ था जिसमें उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेता के पद छोड़ने पर सवाल खड़े करते हुए कहा था कि इस सरकार में कुछ तो गलत हो रहा है. हेमाराम चौधरी राजस्थान के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता है जो 6 बार चुनकर विधानसभा पहुंच चुके हैं. इस प्रकरण पर राजस्थान की राजनीति की जानकारी रखने वाले जानकारों का मानना है कि हेमाराम अगर स्पीकर जोशी से नहीं मिलते हैं तो उनका इस्तीफा लंबित हो सकता है.

इसे भी पढ़ें- राजस्थान : पान-मसाला, बीड़ी, सिगरेट और गुटखा के दाम बढाएगी राजस्थान सरकार, राजस्व में आई कमी को पूरा करने के लिए लगाएगी नया शुल्क

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *