Rajasthan Phone Tapping: आरोप-प्रत्यारोप का दौर फिर शुरू, जानें,  किसने क्या कहा ... - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

Rajasthan Phone Tapping: आरोप-प्रत्यारोप का दौर फिर शुरू, जानें,  किसने क्या कहा …

Jaipur: राजस्थान में तीन सीटों पर होने वाले  उपचुनाव (Bye election) के ठीक पहले फोन टैपिंग (phone tapping) मामले में एक बार फिर से सियासत गर्मा गयी है. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Union Minister Gajendra Singh Shekhawat ) ने दिल्ली में FIR दर्ज करवाकर इसे मसले को एक बार फिर से जन्म दे दिया है. इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस ने कहा कि सिंह को राजस्थान आकर अपनी आवाज का नमूना जांच एजेंसी को देना चाहिए ताकि सच सामने आ सके. बता दें कि  केंद्रीय जल शक्ति मंत्री मंत्री शेखावत की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने फोन टैपिंग से जुड़े मामले में एक FIR दर्ज की है. इसके बाद  से एक बार फिर से राजस्थान की सियासती हवाओं में गर्मी आ गयी है.  कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) ने इसकी खबर साझा करते हुए ट्वीट किया कि  ‘‘गजेंद्र सिंह जी झूठी FIR की नौटंकी बंद करें और राजस्थान पधारकर अपना वॉयस सैंपल एसीबी को दें ताकि राज्य की सरकार को गिराने की साजिश में आपकी संलिप्तता का जो सबूत राजस्थान पुलिस के पास है उसका सच बाहर आ सके.

वॉयस टेस्ट पर छिड़ा घमासन

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (Gulab Chand Kataria) ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह ने आज फोन टैपिंग को लेकर के एक FIR दर्ज करवाई है.  उन्होंने एक वीडियो बयान में कहा, ‘‘अगर गजेंद्र सिंह के वॉयस टेस्ट में देरी हो रही है तो कांग्रेस के जिन दो विधायकों भंवरलाल शर्मा व विश्वेंद्र सिंह का नाम इसमें आया है… पहले आप उनका वॉयस टेस्ट करके जो मामला है उसे आगे बढ़ाएं.’’

कटारिया ने कहा, ‘ फोन टैपिंग कानून की अवहेलना है इसी कारण आपकी सरकार चली जायेगी’’

इस मामले को लेकर पिछले दिनों विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ था. जहां राजस्थान सरकार ने राज्य में नेताओं के फोन टैपिंग के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि राज्य में किसी विधायक, सांसद या जनप्रतिनिधि का फोन टैप नहीं हुआ है. संसदीय मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में विपक्ष को चुनौती दी कि अगर वह अपने आरोप साबित कर दे तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित पूरी सरकार इस्तीफा दे देगी.

इसे भी पढ़ें- SBI, HDFC, ICICI जैसे बड़े बैंकों की SMS सेवाएं 1 अप्रैल से हो सकती हैं बंद, जानें कारण

गजेंद्र सिंह शेखावत को बचाने के लिए उठता हा मुद्दा- धारीवाल

इस मुद्दे को लेकर BJP पर पलटवार करते हुए धारीवाल ने कहा था कि विपक्ष फोन टैपिंग का मुद्दा केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को बार बार बचाने के लिए उठाता है. धारीवाल ने कहा कि अगर शेखावत पाक साफ हैं तो वॉयस सैंपल क्यों नहीं देते ? उन्होंने कहा कि विशेष कार्यबल एसओजी द्वारा 17 जुलाई 2020 को लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार को धनबल से गिराने के मुकदमे दर्ज किये.

इसे भी पढ़ें- पूर्व भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर कोरोना से संक्रमित, घर पर खुद को किया क्वारंटीन

विधायकों के बगावती तेवर दिखाने के दौरान लगे थे आरोप

पिछले साल कांग्रेस के कुछ विधायकों द्वारा मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व के खिलाफ बगावती तेवर अपनाए जाने के बाद कांग्रेस ने अपने विधायकों को लंबे समय तक अलग अलग होटलों में रखा था. इस दौरान विधायकों के फोन टैप किए जाने के आरोप लगे थे हालांकि अधिकारियों व सरकार की ओर से इसका लगातार खंडन किया गया. पिछले साल अगस्त महीने में BJP विधायक कालीचरण सराफ ने राज्य में फोन टैपिंग के बारे में सवाल पूछा था जिसका जवाब इस महीने राज्य विधानसभा की वेबसाइट पर प्रकाशित हुआ. इसके बाद यह मामला फिर गर्म है.

इसे भी पढ़ें- West Bengal Assembly Elections 2021: पहले चरण के लिए मतदान शुरू, पहले 2 घंटे में 7.72 फीसदी वोटिंग दर्ज

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *