Rakesh Tikait tractor march टिकैत ने कहा होगा ट्रैक्टर मार्च
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Rakesh Tikait tractor march टिकैत ने कहा होगा ट्रैक्टर मार्च

टिकैत ने कहा होगा ट्रैक्टर मार्च

Rakesh Tikait tractor march

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा और कैबिनेट की बैठक में तीनों विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने की मंजूरी के बाद भी आंदोलन कर रहे किसान अपनी जगह से हटने को तैयार नहीं हैं। किसानों ने कहा है कि जब तक न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी का कानून नहीं बनाया जाता है तब तक वे आंदोलन से नहीं हटेंगे। किसान लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र को गिरफ्तार करने की मांग भी कर रहे हैं। इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने 29 नवंबर को संसद तक होने वाले ट्रैक्टर मार्च की रणनीति बताई है।

Read also Congress मजबूत सीएम को नहीं करता बर्दास्त, कैप्टन अमरिंदर बोले-अगला नंबर गहलोत का…

राकेश टिकैत ने कहा कि 60 ट्रैक्टरों के साथ दिल्ली में मार्च निकाल कर न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी के लिए दबाव डालेंगे। उन्होंने कहा कि 29 नवंबर को ट्रैक्टर मार्च निकाल संसद जाएंगे। सड़क घेरने के आरोपों पर उन्होंने कहा- हम पर सड़कों को ब्लॉक करने का आरोप लगा था। लेकिन ये हमने नहीं किया था। सड़कों को ब्लॉक करना हमारा आंदोलन नहीं है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को तीनों कानून वापस लेने की घोषणा की थी और बुधवार को कैबिनेट ने इसकी मंजूरी भी दे दी।

Read also ममता से मिले सुब्रह्मण्यम स्वामी

बहरहाल, किसान आंदोलन का चेहरा बन कर उभरे टिकैत ने कहा कि इस बार एक हजार लोग संसद जाएंगे। उन्होंने कहा कि किसान एमएसपी पर सरकार की प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि पिछले एक साल में साढ़े सात सौ किसानों की मौत हुई है, सरकार को उसकी भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। दूसरी ओर संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बयान में कहा है कि ट्रैक्टर रैलियों के आयोजन को लेकर तैयारियां चल रही हैं। दिल्ली के आसपास के हजारों किसानों के आने की उम्मीद है और 26 नवंबर को एक साल पूरे होने पर आंदोलन की आंशिक जीत का जश्न मनाया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सिखों पर खालिस्तानी टिप्पणी को लेकर दिल्ली विधानसभा पैनल ने कंगना रनौत को तलब किया
सिखों पर खालिस्तानी टिप्पणी को लेकर दिल्ली विधानसभा पैनल ने कंगना रनौत को तलब किया