यूपी में कोरोना की वास्तविक हालात का पता नहीं : अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जिस प्रकार कोरोना टेस्ट टाले जा रहे हैं, उससे वास्तविक स्थिति का पता नहीं चल रहा है।

यादव ने कहा कि प्रदेश इस समय कोरोना के साथ-साथ कानून व्यवस्था की बिगड़ी हालत का भी शिकार है। जिस प्रकार कोरोना टेस्ट टाले जा रहे हैं, उससे वास्तविक स्थिति का पता नहीं चल रहा है और अब कोरोना पीक कब आएगा कहा नहीं जा सकता।

उन्होने सवाल किया सरकार बताए कि ऐसे में वह कोरोना-पीक से लड़ने की तैयारी कैसे करेगी। उन्होने कहा कि कोरोना संकट में लाॅकडाउन होने पर दूसरे प्रदेशों से आये श्रमिकों को भाजपा सरकार रोजगार नहीं दे सकी। ये श्रमिक फिर मुम्बई, सूरत, गुजरात, पंजाब में काम की तलाश में जाने लगे है। इन जगहों को जाने वाली ट्रेनों में जुलाई भर जगहें नहीं है। श्रमिक कहने लगे है कि अपने गांव में जीना मुश्किल है। जिस उम्मीद से लौटे थे निराशा हुई।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि महिला सुरक्षा का दावा करने वाली भाजपा सरकार पूर्णतः विफल साबित हो चुकी है। हत्या-बलात्कार के मामले थम नहीं रहे हैं। अपराधी बेखौफ अपने धंधे चला रहे हैं। बरेली के फरीदपुर में एक छात्रा की हत्या कर उसका शव फेंका गया। उन्नाव में एक युवती का शव मिला। चित्रकूट में महिला से गैंगरेप की घटना हुई। बरखेड़ा में घर में घुस कर युवती से बलात्कार किया गया।

दरअसल, भाजपा के बस में अपराध नियंत्रण नहीं रह गया है। सत्ता दल के नेता अपनी दबंगई दिखाने में पीछे नहीं है। अधिकारी तो एक कान से सुनकर उनकी बातें दूसरे कान से उड़ा देते है। ठोको नीति के मंत्र की प्रशासन ने गांठ बांध ली है। नतीजतन उत्तर प्रदेश अपराधियों का पनाहगाह बनता जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares