आरएसएस 15 लाख युवाओं को समाजसेवा से जोड़ने की तैयारी में

बेंगलुरू। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने समाज में परिवर्तन लाने के लिए युवाओं के साथ मिलकर बड़ा समाजसेवा अभियान चलाने की पहल की है। 15 लाख युवाओं को इस अभियान से जोड़ने की तैयारी है।

आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने यहां मीडिया को बताया, “कुछ समय पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने स्वयंसेवकों की रुचि, क्षमता और समय की उपलब्धता आदि को लेकर सर्वेक्षण किया था।

इसे भी पढ़ें :- कोरोनावायरस के प्रति सावधानी बरतें : प्रियंका

इसमे ं30 वर्ष से अधिक आयु के 15 लाख स्वयंसेवकों से चर्चा हुई थी। सभी स्वयंसेवक समाज में सकारात्मक परिवर्तन और समाज की आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिए सक्रिय भूमिका अदा करें, इसको लेकर 15 से 17 मार्च के बीच होने वाली प्रतिनिधि सभा में विशेष चर्चा होने वाली है।”

उन्होंने बताया कि संघ इन स्वयंसेवकों को समाज की आवश्यकता के अनुसार कार्य में लगाएगा। उन्होंने कहा कि बैठक में समसामयिक विषयों पर भी चर्चा होती है तथा प्रतिनिधि भी आवश्यकतानुसार विभिन्न विषयों को उठा सकते हैं। सीएए व अन्य विषयों पर भी चर्चा हो सकती है। बेंगलुरू के जनसेवा विद्या केंद्र में 15 से 17 मार्च तक होने वाली बैठक से पहले मीडिया को जानकारी देते हुए अरुण कुमार ने कहा कि “भारतीय प्रतिनिधि सभा संघ की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च इकाई है।

इसकी बैठक वर्ष में एक बार होती है। प्रत्येक तीसरे वर्ष में यह बैठक नागपुर में होती है। प्रतिनिधि सभा की बैठक का उद्घाटन 15 मार्च को सुबह 8.30 बजे होगा।” उन्होंने बताया कि “प्रतिनिधि सभा की बैठक में पिछले वर्ष के कार्य की समीक्षा के साथ ही आगामी वर्ष की योजना पर भी चर्चा होगी। इसके अलावा विभिन्न प्रांतों, संगठनों से आए प्रतिनिधि अपनी उपलब्धियों एवं अपने अनुभवों को साझा करते हैं। 14 मार्च को अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक होगी, जिसमें प्रतिनिधि सभा की बैठक का एजेंडा तय होगा।

इसे भी पढ़ें :- विवाद से विश्वास विधेयक को संसद की मंजूरी

कार्यकारी मंडल में प्रांत व क्षेत्र स्तर के संघचालक, कार्यवाह, प्रचारक और अखिल भारतीय कार्यकारिणी के कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे। बैठक में आगामी वर्ष में आयोजित होने वाले संघ शिक्षा वर्गों, कार्यक्रमों को लेकर चर्चा होगी तथा अखिल भारतीय अधिकारियों के वर्ष के प्रवास भी तय होंगे।” प्रतिनिधि सभा की बैठक में 1500 कार्यकर्ता भाग लेंगे, जिसमें अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल के साथ देश के 44 प्रांतों से निर्वाचित प्रतिनिधि, विशेष आमंत्रित सदस्य, राष्ट्र सेविका समिति की कार्यकर्ता शामिल हैं।

इनके अलावा 35 अनुषांगिक संगठनों के अध्यक्ष व महासचिव, विहिप के अध्यक्ष जस्टिस वी.एस. कोकजे, कार्यकारी अध्यक्ष आलोक  कुमार, विद्यार्थी परिषद के अध्यक्ष सुबैय्या षणमुगम, भारतीय मजदूर संघ के अध्यक्ष साजी नारायण, विद्या भारती के अध्यक्ष रामकृष्ण राव, वनवासी कल्याण आश्रम के अध्यक्ष जगदेव उरांव, भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा, सक्षम के अध्यक्ष दयाल सिंह पवार आदि को आमंत्रित किया गया है।

अरुण कुमार ने बताया कि बैठक के अंतिम दिन 17 मार्च को सरकार्यवाह भय्याजी जोशी अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में लिए गए निर्णयों, पारित प्रस्तावों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। प्रेस ब्रीफिंग में अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, दक्षिण मध्य क्षेत्र कार्यवाह तिप्पेस्वामी भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares