nayaindia samyukta kisan morcha 75 hour strike लखीमपुर खीरी में महापड़ाव
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| samyukta kisan morcha 75 hour strike लखीमपुर खीरी में महापड़ाव

लखीमपुर खीरी में महापड़ाव

farmer protest not return

लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों का महापड़ाव शुरू हो गया है। खीरी में बिल्कुल वैसा माहौल है, जैसा किसान आंदोलन शुरू होने के समय दिल्ली की सीमाएं पर था। देश भर के किसान केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी को उनके पद से हटाने और किसानों के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस लेने के लिए खीरी पहुंचे हैं। उनका महापड़ाव 75 घंटे का होगा। गौरतलब है कि पिछले साल दो अक्टूबर को टेनी के बेटे आशीष मिश्र ने अपनी गाड़ी से किसानों को कुचल दिया था, जिसमें पांच किसानों की मौत हो गई है।

इस मामले को लेकर केंद्रीय मंत्री आशीष मिश्र की बरखास्तगी की मांग के साथ संयुक्त किसान मोर्चा के महापड़ाव गुरुवार से शुरू हो गया। लखीमपुर कृषि मंडी में आयोजित किए गए किसान महापंचायत के बाद महापड़ाव शुरू हुआ। देश भर से किसान दिल्ली बॉर्डर की तरह यहां भी खाने-पीने का सामान साथ लेकर आए हैं। कार्यक्रम से पहले मंडी स्थल पर गुरुवाणी का पाठ किया गया और साथ ही दिल्ली किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

दिल्ली बॉर्डर की तरह इस बार नजारा लखीमपुर खीरी जिले में देखने को मिल रहा है। देश भर से किसानों का यहां पहुंचना शुरू हो गया है। किसान नेता राकेश टिकैत से लेकर, योगेंद्र यादव, मेधा पाटकर जैसे नेता पहले ही पहुंच गए हैं। 75 घंटे तक चलने वाले इस महापड़ाव में पंजाब, राजस्थान, हरियाणा समेत कई प्रदेशों से किसानों का पहुंचना  जारी है। इनमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हैं। गुरुवार खीरी में पहुंचे किसानों ने एक बार फिर एक साल से ज्यादा चले किसान आंदोलन की यादें ताजा कर दी हैं। बताया जा रहा है कि दिल्ली की सीमा पर हुए किसान आंदोलन की तरह यह आंदोलन भी होगा।

महापड़ाव के लिए पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि तीसरे दिन आंदोलन के स्वरूप का ऐलान करेंगे। गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी कांड के आरोपी आशीष मिश्र के पिता केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी को बरखास्त करने की मांग कई महीनों से चली आ रही है। इसको लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने सरकार को विधानसभा चुनाव से पहले चेताया था। राकेश टिकैत ने कहा था कि टेनी को जल्द से जल्द बरखास्त किया जाए। मांग पूरी नहीं हुई तो एक बार फिर आंदोलन उग्र होगा। किसानों की संख्या को देखते हुए खीरी जिले का प्रशासन भी पूरी तरह से अलर्ट हो गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

11 − 6 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सूर्यकुमार ने फोड़ दिये पटाखे, ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से रौंद टीम इंडिया ने जीती सीरीज
सूर्यकुमार ने फोड़ दिये पटाखे, ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से रौंद टीम इंडिया ने जीती सीरीज