आईआईटी का सिक्योरिटी सर्विलांस सैन्य बलों का बन सकता है मददगार - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

आईआईटी का सिक्योरिटी सर्विलांस सैन्य बलों का बन सकता है मददगार

लखनऊ। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के सहयोग से भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) का सिक्योरिटी सर्वेलांस सिस्टम सैन्य बलों के लिये मददगार साबित हो सकता है।

आईआईटी रुड़की ने सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो कमल जैन ने गुरूवार को कहा, “रक्षा उत्पादन के विभिन्न क्षेत्रों और बीईएल की साझेदार अन्य एजेंसियों से बहुत उत्साहवर्द्धक प्रतिक्रिया मिली है।

हमारे हाल के महत्वपूर्ण शोध ने हमारे विशेषज्ञों को असरदार बुनियादी सुरक्षा निगरानी व्यवस्था की गहन जानकारी प्रदर्शित करने में सक्षम बनाया है। बीईएल के सहयोग से इसका परिचालन सुचारु होगा, व्यावसायिक सक्षमता में सुधार और लागत में भी कमी आएगी।”

सेक्युरीटी सर्वेलांस सिस्टम के तहत कई महत्वपूर्ण कार्य होंगे जिसमें किसी स्थान पर निगरानी, सुरक्षा , सैन्य गुप्त सूचना (सीमा की चौकसी), संदिग्ध गतिविधि का पता लगाना आदि शामिल है। इसके अलावा उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों/वीडियो के मामले में नेविगेशन, लोगों की गुप्त सूचना एकत्र करना, सार्वजनिक और निजी अपराध की रोकथाम, गोपनीयता के उल्लंघन पर नजर रखना, किसी कार्य प्रक्रिया का संरक्षण, वायरलेस सेक्युरीटी ट्रैकिंग आदि में भी यह उपकरण कारगर साबित होगा।

उन्होने कहा कि आईपी कैमरे की मदद से हम तस्वीरों/ विडियो में किसी इंसान के निर्देशांक (काॅर्डिनेट) एकत्र कर डेटाबेस में भेज सकते हैं। किसी इंसान के निर्देशांक की मदद से उसकी असामान्य गतिविधि पर नजर रखना और उसके रेड जोन में जाने की चेतावनी देना आसान होगा।

इसके अलावा संदिग्ध इंसान जब भी परिसर में कदम रखेगा उसकी गतिविधि पर निगरानी बनी रहेगी। किसी इंसान के निर्देशांक की पहचान आईपी कैमरे फेस आईडी के माध्यम से करेंगे। यह निगरानी प्रणाली उच्च स्तरीय सतर्कता सुरक्षा क्षेत्र जैसे कि रक्षा सेवाओं, निजी और सार्वजनिक क्षेत्र में विशिष्ट उच्च अधिकारियों को उच्च सुरक्षा, हवाई अड्डों आदि की सुरक्षा के लिए एक अभूतपूर्व साधन होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *