Shani Jayanti 2021: शनि जयंती आज, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि, 148 साल बाद यह मौका आया है भूलकर भी न करें ये काम

Must Read

नई दिल्ली | Shani Jayanti 2021: ज्येष्ठ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन शनि जयंती (Shani Jayanti) का त्यौहार मनाया जाएगा। इस बार यह शुभ तिथि 10 जून यानि आज है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन शनि भगवान का जन्म हुआ था। शनि जयंती का दिन भगवान शनि (Lord Shani Dev) की कृपा प्राप्त करने और कुंडली में शनिदोष से मुक्ति के लिए बेहद शुभ माना जाता है। सभी ग्रहों में शनिदेव को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। शनिदेव को कर्म फलदाता माना जाता है। शनिदेव सभी को उनके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। मान्यता है कि शनि जयंती पर भगवान शनिदेव की विधि-विधान से पूजा करने से शनि दोषों से मुक्ति मिलती है।

ऐसे करें पूजा
शास्त्रों के अनुसार, शनि जयंती पर शनिदेव की पूजा-अर्चना करने का विशेष महत्व है। इस दिन प्रातरू काल उठकर स्नान आदि से निवृत हो जाएं। शनिदेव की मूर्ति पर तेल, फूल माला और प्रसाद अर्पित करें। भगवान के चरणों में काले उड़द और तिल चढ़ाएं। इसके बाद तेल का दीपक जलाकर शनि चालिसा का पाठ करें। इस दिन व्रत करने से भी शनिदेव की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

– शनि जयंती के दिन निर्धन व्यक्ति को भोजन कराना बेहद शुभ फल देता है। इस दिन दान आदि करने से जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं।
– शास्त्रों के अनुसार, शनिदेव व्यक्ति के कर्मों के अनुसार उसे सजा देते हैं। शनि की साढ़ेसाति और ढैय्या मनुष्य के कर्मों के आधार पर ही उसे फल देती है।

शनि भगवान के इन मंत्रों का करें जाप
शास्त्रों के अनुसार, शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनि मंत्रों के जाप से शनि भगवान प्रसन्न होते हैं और जीवन के संकट दूर करते हैं। शनि जयंती की शाम को पश्चिम दिशा की ओर एक दीपक जलाएं। इसके बाद ‘ऊं शं अभयहस्ताय नमः’ का जप करें और कम से कम 11 माला ‘ऊं शं शनैश्चराय नमः’ का जप करें।
इसके अलावा, ‘ ऊं नीलांजनसमाभामसं रविपुत्रं यमाग्रजं छायामार्त्तण्डसंभूतं तं नमामि शनैश्चरम’ मंत्र का जाप करने से भी शनिदेव प्रसन्न होकर फल देते है।

शनि जयंती के शुभ मुहूर्त
अमावस्या तिथि प्रारंभ – 09 जून 2021 दोपहर 01 बजकर 57 मिनट से
अमावस्या तिथि समाप्त – 10 जून 2021 शाम 04 बजकर 22 मिनट तक

शनि जयंती पर कुछ ऐसे भी कार्य हैं जिन्हें करने से शनिदेव नाराज हो जाते हैं। अतः इनको करने से बचना चाहिए।

नहीं करना चाहिए ये सब
– शनि जयंती के दिन घर पर कोई लोहे की वस्तु नहीं लानी चाहिए। मान्यता है कि इस दिन लोहे की वस्तु घर लाने से शनिदेव नाराज होते हैं। ऐसा करने से आर्थिक, शारीरिक व मानसिक कष्टों का सामना करना पड़ सकता है।
– शनि जयंती के दिन शमी या पीपल के वृक्ष को हानि पहुंचाने से शनिदेव अपनी कुदृष्टि डालते हैं।
– शनि जयंती के दिन तेल, लकड़ी, जूते-चप्पल और काली उड़द को नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करने से शनिदेव नाराज होकर अशुभ परिणाम देते हैं।
– शनि जयंती के दिन बड़े-बुजुर्गों का अपमान भूलकर भी नहीं करना चाहिए। कम से कम इस दिन झूठ बोलने से भी बचना चाहिए, नहीं तो शनिदेव अशुभ फल देते हैं।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

एक्ट्रेस Urvashi Rautela ने Mud Bath से निखारी त्वचा, तस्वीर हो गई सोशल मीडिया पर Viral

नई दिल्ली | बाॅल्डनेस को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाली बाॅलीवुड एक्ट्रेस उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela) फिर से...

More Articles Like This