• डाउनलोड ऐप
Saturday, May 15, 2021
No menu items!
spot_img

सोनिया गांधी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग: Corona की दवाओं को GST से रखा जाए बाहर

Must Read

नई दिल्ली। देश में बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना (Corona) महामारी के इलाज के लिए उपयोग में लाई जाने वाली दवाइयों और आवश्यक उपकरणों पर छूट दी जाए और साथ ही गरीबों के खाते में 6,000 रुपये महीने के डाले जाए।

सोनिया गांधी ने कहा कि राज्यों में वैक्सीन (Vaccine) की कमी है और इसे प्राथमिकता पर उपलब्ध कराया जाना चाहिए। उन्होंने उन सभी वैक्सीनों को अनुमति प्रदान किए जाने की भी बात कही है, जिन्हें मंजूरी दे दी गई है। कोरोना (Corona) संक्रमण के चलते प्रवासी मजदूरों का एक बार फिर से पलायन शुरू हो गया है।

इसे भी पढ़ें – कोरोना से हाहाकार! 24 घंटे में 1.60 लाख नए केस, 880 लोग कोरोना का शिकार, अब यहां संपूर्ण लॉकडाउन के आसार

ऐसे में इन्हें कुछ राहत पहुंचाने के लिए सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने अपील की है कि केंद्र सरकार द्वारा ऐसी किसी योजना को लागू किया जाए, जिसके तहत जरूरतमंदों के खाते में हर महीने 6,000 स्थानांतरित हो क्योंकि कोरोना के प्रसार पर काबू पाने के चलते लगाए गए लॉकडाउन या कर्फ्यू से इनकी जिंदगी काफी प्रभावित हुई है।

उन्होंने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों संग बैठक करने के बाद यह पत्र लिखा। पार्टी द्वारा सभी के टीकाकरण के लिए एक सोशल मीडिया अभियान भी शुरूआत की गई है। देश में इस वक्त टीकों की संख्या में आई कमी का जिक्र करते हुए पार्टी ने कहा कि वैक्सीन (Vaccine) के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए और देशवासियों को पहले टीके की खुराक उपलब्ध कराई जाए।

इसे भी पढ़ें – राजस्थान: बीच सड़क पर महिला को हाॅकी व लातों से पटक-पटक कर पीटा, वीडियो वायरल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा, देश को कोविड—19 वैक्सीन (Covid-19 vaccine) की जरूरत है। कृपया अपनी आवाज उठाएं क्योंकि एक सुरक्षित जिंदगी पर सबका अधिकार है।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

प्रतिदिन 4 हजार मौते या 25 हजार या….?

सन् इक्कीस की मई में भारत झूठ में नरक है। दुनिया का ‘मानवीय संकट’ है! इस संकट का एक...

More Articles Like This