nayaindia Strict Law Population Control Giriraj Singh जनसंख्या नियंत्रण के लिए सख्त कानून की जरूरत : गिरिराज सिंह
kishori-yojna
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Strict Law Population Control Giriraj Singh जनसंख्या नियंत्रण के लिए सख्त कानून की जरूरत : गिरिराज सिंह

जनसंख्या नियंत्रण के लिए सख्त कानून की जरूरत : गिरिराज सिंह

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने रविवार को कहा कि देश में जनसंख्या नियंत्रण (Population Control) के लिए एक कानून लाया जाना चाहिए, चीन ने अपनी जनसंख्या को नियंत्रित करके आर्थिक प्रगति हासिल की है। जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर जनसंख्या समाधान फाउंडेशन द्वारा जंतर-मंतर (Jantar Mantar) में आयोजित एक रैली (Rally) के दौरान यहां मीडिया से बातचीत में मंत्री ने कहा भारत को भी अपने सीमित संसाधनों को देखते हुए इसी तरह का कानून लाना चाहिए। रैली में मौजूद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने कहा कि भारत में बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए दो बच्चों की नीति के खिलाफ कानून बनाना जरूरी है। उन्होंने कहा जनसंख्या में बेतहाशा वृद्धि से सभी को परेशानी हो रही है।

चाहे वह हिंदू हो या मुस्लिम, सिख या ईसाई। इसे किसी धर्म, जाति और समुदाय से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। जनसंख्या में वृद्धि से सभी को परेशानी होती है। कुमार ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपने एक भाषण में कहा था कि छोटा परिवार देश के लिए प्यार है। ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने आगे कहा : कानून को सख्त बनाया जाना चाहिए। उल्लंघन करने वालों को सरकारी लाभों से वंचित किया जाना चाहिए और उनके मतदान के अधिकार को छीन लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘जनसंख्या समाधान फाउंडेशन’ (Population Solutions Foundation) के प्रयासों से इस मुद्दे पर जागरूकता पैदा हुई है। उन्होंने ‘एक देश, एक झंडा, एक कानून’ (One Country, One Flag, One Law) का हवाला देते हुए समान नागरिक संहिता पर भी जोर दिया। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − 7 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भाजपा नेता से अभद्रता पर पुलिस निरीक्षक निलंबित
भाजपा नेता से अभद्रता पर पुलिस निरीक्षक निलंबित