nayaindia Sunil Jakhar joins BJP सुनील जाखड़ भाजपा में शामिल
ताजा पोस्ट | देश | पंजाब| नया इंडिया| Sunil Jakhar joins BJP सुनील जाखड़ भाजपा में शामिल

सुनील जाखड़ भाजपा में शामिल

नई दिल्ली। पिछले दिनों कांग्रेस छोड़ने का ऐलान करने वाले पार्टी की पंजाब ईकाई के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ भाजपा में शामिल हो गए हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता दिलाई। गौरतलब है कि जाखड़ पिछले कुछ समय से नाराज चल रहे थे। कैप्टेन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाने के बाद उनको मुख्यमंत्री बनाए जाने की चर्चा थी। लेकिन उनका कहना है कि हिंदू होने की वजह से उनको मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया।

कांग्रेस के हारने के बाद उन्होंने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और दलित नेता चरणजीत सिंह चन्नी को लेकर अपमानजनक बयान दिया था, जिसे लेकर कांग्रेस ने उनको नोटिस जारी किया था। पर जाखड़ ने उस नोटिस का जवाब नहीं दिया और पार्टी छोड़ दी। जाखड़ का परिवार करीब 50 साल कांग्रेस में रहा। उनके पिता बलराम जाखड़ कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे। सुनील जाखड़ पिछले चुनाव में नहीं लड़े थे और उनकी पारंपरिक अबोहर सीट से उनके भतीजे संदीप जाखड़ कांग्रेस के विधायक बने हैं।

बहरहाल, भाजपा में शामिल होने के बाद जाखड़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जम कर तारीफ की। उन्होंने यह भी कहा कि 1972 से लेकर 2022 तक हर अच्छे-बुरे समय में उनका परिवार 50 साल तक कांग्रेस के साथ रहा। जाखड़ ने कहा- मैंने कभी राजनीति को निजी स्वार्थ के लिए इस्तेमाल नहीं किया। मैंने कभी किसी को तोड़ने की कोशिश नहीं की। सुनील जाखड़ ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीयता, एकता और पंजाब के भाईचारे के लिए यह कदम उठाया।

जाखड़ ने कांग्रेस के सिद्धांतों से हटने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा- मैंने रिश्तों को उसूलों की तरह निभाया है। जब पार्टी अपने सिद्धांत से ही हट जाए तो इसके बारे में सोचना पड़ता है। सुनील जाखड़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जम कर तारीफ की। उन्होंने कहा- मैं डेढ़ साल संसद में रहा। प्रधानमंत्री मोदी करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए पंजाब आए थे। तब उनके साथ लंगर छका और बातचीत का मौका मिला। अब उन्होंने लाल किले पर हिंद की चादर श्री गुरू तेग बहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व बनाया।

Leave a comment

Your email address will not be published.

8 + 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
उद्धव को ढाई साल ही रहना था
उद्धव को ढाई साल ही रहना था