tribunals reforms supreme court ट्रिब्यूनल में नियुक्ति में देरी से अदालत नाराज
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया| tribunals reforms supreme court ट्रिब्यूनल में नियुक्ति में देरी से अदालत नाराज

ट्रिब्यूनल में नियुक्ति में देरी से अदालत नाराज

Examination Issue in Supreme

Tribunals reforms supreme court नई दिल्ली। देश की अलग अलग ट्रिब्यूनल में खाली पदों पर नियुक्ति के आदेश देने के बाद भी उसमें हो रही देरी पर सुप्रीम कोर्ट ने गहरी नाराजगी जताई है। सर्वोच्च अदालत ने सोमवार को केंद्र सरकार के ऊपर तीखी टिप्पणी की। अदालत ने कहा कि उसके फैसलों का सम्मान नहीं किया जा रहा है। सर्वोच्च अदालत ने सरकार को आगाह करते हुए कहा कि कोर्ट के धैर्य की परीक्षा मत लीजिए। अदालत ने केंद्र को नियुक्तियों के लिए एक हफ्ते का समय दिया। अगले सोमवार को फिर मामले की सुनवाई होगी।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एल नागेश्वर राव की स्पेशल बेंच ने केंद्र  से नाराजगी जताते हुए सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता को फटकार लगाई। अदालत ने ट्रिब्यूनल में खाली पदों को भरने में देरी और ट्रिब्यूनल रिफॉर्म्स एक्ट पारित करने को लेकर नाराजगी जताई। चीफ जस्टिस एनवी रमना ने कहा- हमने पिछली बार भी पूछा था कि आपने ट्रिब्यूनलों में कितनी नियुक्तियां की हैं। हमें बताइए कि अब तक कितनी नियुक्तियां हुई हैं।

Read also अमेरिका विरोधी देशों को तालिबान का न्योता

Punishment after overturning the victim :

तीन जजों की बेंच ने सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता से पूछा- अब तक कितने लोगों को अप्वांइट किया गया है। आपने कहा था कि कुछ लोगों की अप्वांइटमेंट हुई थी, कहां हैं ये अप्वाइंमेंट?” अदालत ने आगे कहा- मद्रास बार एसोसिएशन में हमने जिन प्रावधानों को खत्म किया था, ट्रिब्यूनल एक्ट भी ठीक उसी तरह है। हमने जो निर्देश आपको दिए थे, उसके हिसाब से अभी तक नियुक्ति क्यों नहीं हुई। सरकार नियुक्ति नहीं करके ट्रिब्यूनल को शक्तिहीन बना रही है। कई ट्रिब्यूनल तो बंद होने के कगार पर हैं। हम इन हालात से बेहद नाखुश हैं।

Also read आदमी ने नोकिया 3310 को निगल लिया, फोन पेट में तीन टुकड़ों में बंट गया और डॉक्टर ने पेट को काटे बिना की सर्जरी

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हमारे पास अब केवल तीन विकल्प हैं। पहला, हम कानून पर रोक लगा दें। दूसरा, हम ट्रिब्यूनल बंद कर दें और सारे अधिकार कोर्ट को सौंप दें। तीसरा, हम खुद नियुक्ति कर लें। सदस्यों की कमी के चलते एनसीएलटी और एनसीएलएटी जैसे ट्रिब्यूनल में काम ठप्प है। तुषार मेहता ने कहा कि सर्च और सेलेक्शन कमेटी की सिफारिश पर  वित्त मंत्रालय दो हफ्ते में फैसला लेगा। उन्होंने कहा- मुझे दो तीन दिन का वक्त दीजिए, तब मैं आपके सामने इस मुद्दे पर जवाब पेश करूंगा। इस पर अदालत ने कहा- हम सोमवार को इस मामले की सुनवाई करेंगे और उम्मीद है कि तब तक नियुक्तियां हो जाएंगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सहयोगी दलों के नेताओं की भी उम्मीदें
सहयोगी दलों के नेताओं की भी उम्मीदें