Third Wave of Coronavirus :  नवंबर-दिसंबर में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, अभी से शुरू कर दें बचने के ये उपाय

Must Read

नई दिल्ली। पूरा देश अभी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर (Covid Second  Wave) से संघर्ष में लगा है. वहीं एक्सपर्ट ने अब तीसरी लहर (Covid 3rd Wave) को लेकर भी चैंकाने वाले दावे कर दिए हैं। जिसके अनुसार भारत में तीसरी लहर भी आएगी, लेकिन कब तक आएगी, इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

केंद्र सरकार के प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर प्रोफेसर विजय राघवन ने बुधवार को कहा कि दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर (Third Covid Wave) भी आएगी। उन्होंने कहा, तीसरी लहर भी आएगी, लेकिन कब आएगी और कितनी खतरनाक होगी, इसके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। कोरोनावायरस के वैरिएंट लगातार बदल रहे हैं, इसलिए हमें तीसरी लहर के लिए भी तैयार रहना होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए वैक्सीन प्रभावी है, वैज्ञानिक इसको और अपग्रेड करने पर भी काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:- COVID-19 Latest Update : भारत में कोरोना का सबसे बड़ा विस्फोट, पहली बार 4.12 लाख नए पाॅजिटिव, मौतों ने भी तोड़ डाले सारे रिकॉर्ड

तीसरी लहर (Covid Third Wave) के बारे में कर्नाटक में नेशनल कोविड टास्क फोर्स के मेंबर और एडवाइजर डॉ. गिरिधर बाबू का कहना है कि इसके ठंड में नवंबर के आखिरी में या दिसंबर की शुरुआत में आने की आशंका है। इसलिए इस संक्रमण से जिन्हें सबसे ज्यादा खतरा है, उन्हें जल्द से जल्द वैक्सीनेट करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर युवा आबादी को प्रभावित कर सकती है। उनका कहना है कि तीसरी लहर तीन फैक्टर पर निर्भर करती है।

– दिसंबर तक हम कितने लोगों को वैक्सीनेट करते हैं
– हम सुपर स्प्रेडर इवेंट को कितना रोक पाते हैं
– हम कितनी जल्दी वायरस के नए वैरिएंट्स की पहचान कर पाते हैं और उसे रोक पाते हैं

यह भी पढ़ें:- ALERT! अगर आपको भी आ रहे है Vaccination Register के नाम से मैसेज तो हो जाए सावधान..हो सकता है बेहद खतरनाक

डॉ. बाबू का कहना है कि, हम दूसरी लहर से जैसे ही निकलते हैं, वैसे ही हमें स्थायी समाधान लागू करने की जरूरत है। हमें संक्रमण और मौतों को कम करने के लिए एक एग्रेसिव स्ट्रेटजी बनाने की जरूरत है। हमें टेस्टिंग की सुविधा बढ़ानी होगी। एक मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर खड़ा करना होगा।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

‘चित्त’ से हैं 33 करोड़ देवी-देवता!

हमें कलियुगी हिंदू मनोविज्ञान की चीर-फाड़, ऑटोप्सी से समझना होगा कि हमने इतने देवी-देवता क्यों तो बनाए हुए हैं...

More Articles Like This